किडनी खराब होने पर क्या खाएं? - what to eat for kidney failure in hindi

शरीर के अन्य अंगों की तरह किडनी भी एक महत्वपूर्ण अंग है. किडनी बीमारी में क्या खाना चाहिए, किडनी इन्फेक्शन के लक्षण, किडनी में क्या खाएं और क्या नहीं?
किडनी खराब होने पर क्या खाएं?

बिगड़ती जीवनशैली और गलत खानपान की वजह से मानव शरीर में कई तरह की बीमारियां मिल रही है, जिनमें से एक है किडनी फेल होना.

किडनी स्वस्थ अवस्था में लगभग 125 मिलीलीटर खून को 1 मिनट में शुद्ध करती हैं.

किडनी का विशेष काम शरीर से अनुपयोगी तत्व या विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालना है लेकिन जब यह क्रिया बाधित होती है, तो रक्त से विषाक्त पदार्थ बाहर नहीं जा पाते हैं.

जिसके परिणाम स्वरूप शरीर में विषाक्त पदार्थों की संख्या बढ़ने लगती है जिस कारण यह स्थिति कभी-कभी जानलेवा भी सिद्ध हो सकती है, इसे ही किडनी के फेल होना नाम से जाना जाता है.

किडनी रोग होने पर डॉक्टरों के द्वारा दी गई दवाइयों का सेवन तो करते हैं, लेकिन इसके साथ-साथ आहार एवं परहेज का भी ध्यान रखना चाहिए.

अक्सर लोग पूछते हैं कि किडनी की बीमारी में क्या खाएं? इसलिए इस लेख के माध्यम से जानेंगे कि किडनी रोग में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं?

किडनी इन्फेक्शन के लक्षण | Symptoms of kidney infection in hindi

जब शरीर में कोई भी बीमारी दस्तक देती है तो उसके लक्षण महसूस होने लगते हैं उसी प्रकार जब शरीर में किडनी से संबंधित कोई रोग शुरू होता है तो इसके कुछ लक्षण महसूस होते हैं जो इस प्रकार हैं.

➭ शरीर में सूजन होना.

➭  शरीर के अंदर तरल पदार्थों का असंतुलित होना.

➭  सांस फूलना.

➭  जल्दी थक जाना.

➭  शरीर में पीलापन दिखना.

➭  वजन धीरे धीरे कम होना.

➭  नींद ना आना.

➭  मुंह में बदबू आना, मुंह का स्वाद बिगड़ जाना.

➭  मांसपेशियों में ऐंठन व मरोड़ होना.

➭  पेशाब की मात्रा में कमी आना, दर्द होना रुकावट जैसी परेशानी होना.

➭  भूख की कमी, मतली, उल्टी होना.

किडनी के लिए क्या खाएं? | what to eat for kidney in hindi

बहुत सी बीमारियों के इलाज में दवाइयों के साथ-साथ खानपान का भी ध्यान रखना पड़ता है.

किडनी खराब होने की स्थिति में डॉक्टर विशेष तौर से खाने को लेकर कई तरह की रियायत बरतने की सलाह देते हैं तो आइए जानते हैं किडनी पेशेंट को क्या खाना चाहिए?

1. किडनी के लिए फल (fruit for kidney)

किडनी फेल होने की अवस्था में किडनी को स्वस्थ और सबल बनाए रखने के लिए आहार में कई तरह के फलों का सेवन कर सकते हैं जो इस प्रकार है.

1.1. अनार (Pomegranate)

अनार सर्वगुण संपन्न फल है. किडनी पेशेंट अपनी डाइट में अनार फल को शामिल कर सकते हैं क्योंकि इसमें फास्फोरस और पोटेशियम की मात्रा नियंत्रित होती है.

अनार यूरिन सिस्टम को नियंत्रित करने के साथ-साथ शरीर में पथरी बनने की प्रक्रिया को भी रोकता है. किडनी रोग में अनार का जूस पीना भी फायदेमंद होता है.

1.2. पपीता (Papaya)

किडनी की समस्या होने पर विशेष तौर से आहार का ध्यान रखना होता है. डॉक्टर ऐसे खाद्य पदार्थों को खाने की सलाह देते हैं जिनमें कम मात्रा में फॉस्फोरस, पोटेशियम और नमक हो.

ऐसे में आप फलों में पपीता फल को डाइट में शामिल कर सकते हैं.

1.3. अनानास (Pine apple)

इसमें पोटेशियम और फास्फोरस की बहुत ही कम मात्रा पाई जाती है इसके अलावा यह विटामिन सी, ए, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, मैग्नीस ,प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट एवं डाइटरी फाइबर का भी मुख्य स्रोत है.

आयुर्वेद के अनुसार आप अनानास फल को किडनी डाइट में शामिल कर सकते हैं.

1.4. सेब (Apple)

किडनी का महत्वपूर्ण कार्य शरीर से अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालना है जिससे शरीर में पोषक तत्वों के बीच संतुलन बना रहता है.

अक्सर लोग पूछते हैं कि किडनी के लिए कौन से फल हैं तो आप इसमें सेब को शामिल कर सकते हैं, क्योंकि सेब में कई ऐसे पोषक तत्व होते हैं जो किडनी रोग को कम करने में लाभकारी होते हैं.

एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट के रूप में सेब इम्यूनिटी को भी मजबूत करता है, साथ ही किडनी से जुड़ी हुई बीमारी जैसे की मधुमेह, कोलेस्ट्रॉल एवं मोटापा इनका जोखिम भी कम होता है.

1.5. अंगूर (Grape)

किडनी के मरीजों को नियमित रूप से अंगूर का सेवन करना भी फायदेमंद हो सकता है.

इसमें कई तरह की फाइटोकेमिकल्स होते हैं जो किडनी से होने वाली समस्याओं को कम करने में मदद करते हैं.

किडनी की समस्या से गुजर रहे लोगों को ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जिसमें फास्फोरस और पोटेशियम की मात्रा बहुत ही कम हो जो अंगूर में पाई जाती है.

1.6. स्ट्रॉबेरी (Strawberry)

किडनी शरीर का विभिन्न अंग है जो मानव शरीर में अम्ल और छार जैसे तत्वों का संतुलन बनाए रखती है.

कभी-कभी शरीर में लगातार सूजन होने से किडनी फेल्योर जैसी जानलेवा बीमारी होने लगती है तो ऐसे में आप स्ट्रॉबेरी का सेवन कर सकते हैं.

स्ट्रॉबेरी में कई तरह के फाइटोकेमिकल तत्व मौजूद होते हैं जो सूजन से निजात दिलाने में मदद करते है साथ ही इनमें पोटेशियम और फास्फोरस की मात्रा भी बहुत काम होती है.

किडनी खराब होने पर क्या खाएं?

2. किडनी के लिए सब्जियां (vegetables for kidney)

किडनी की बीमारी में क्या खाएं इसका खास ख्याल रखना पड़ता है. किडनी के मरीज सभी प्रकार की सब्जियों को आहार में शामिल नहीं कर सकते हैं इसमें कुछ चुनिंदा सब्जियां होती हैं जो आप परहेज के तौर पर खा सकते हैं, जो इस प्रकार हैं.

2.1. तोरई (Ridge gourd)

किडनी रोगियों को तुरई की सब्जी आहार में अवश्य शामिल करना चाहिए क्योंकि इसमें पाए जाने वाले अद्भुत पोषक तत्व किडनी की समस्याओं को कम करने के साथ-साथ यूरिक एसिड की मात्रा को भी नियंत्रित करते हैं.

इसके अलावा इसमें आयरन, विटामिन ए, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, मैग्नीशियम एवं कई खनिज तत्व होते हैं जो अन्य गंभीर बीमारियों के बचाव के लिए आवश्यक होते हैं.

2.2. फूलगोभी (Cauliflower)

गलत खानपान किडनी के रोग को बढ़ावा देता है, जब शरीर में सोडियम, पोटेशियम, नमक और फास्फोरस की मात्रा बढ़ने लगती है तो किडनी में सूजन या किडनी फेल होने का खतरा बढ़ जाता है.

ऐसे में आप आहार में फूल गोभी की सब्जी को शामिल कर सकते हैं क्योंकि इसमें मौजूद फाइटोकेमिकल्स इन्फ्लेमेशन और सूजन के ऑक्सीडेशन को कम करता है जिससे किडनी अच्छी तरीके से काम कर पाती है.

2.3. बंद गोभी (Cabbage)

किडनी के मरीज आहार में बंद गोभी की सब्जी को शामिल कर सकते हैं इसमें मौजूद फाइटोकेमिकल्स किडनी की समस्या को कम करने में लाभकारी होते हैं.

इसके अलावा इसमें इंफ्लामेन्ट्री तत्व होता है जो किडनी की सूजन को कम करने में मददगार साबित हो सकता है, साथ ही इसके सेवन से किडनी से संबंधित बीमारियों के जोखिम से भी बचा जा सकता है.

2.4. परवल (Pointed gourd)

किडनी शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है, जो रक्त में सोडियम, यूरिक एसिड, फॉस्फोरस, पोटेशियम आदि तत्वों को खून से अलग कर देती है और उन्हें पेशाब के जरिए शरीर से बाहर निकाल देती है, ऐसे में किडनी को स्वस्थ रखना बेहद आवश्यक है.

किडनी के आहार में आप परवल की सब्जी को शामिल कर सकते हैं क्योंकि इसमें पाए जाने वाले मिनरल्स और खनिज तत्व किडनी संबंधित बीमारियों के खतरे को कम करते हैं साथ ही यह किडनी रोग में भी फायदेमंद है.

2.5. शिमला मिर्च (Capsicum)

शिमला मिर्च सब्जी के कई फायदे हैं, यह कई प्रभावशाली पोषक तत्व से भरपूर होती है जो रोग निवारक और स्वस्थ स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है.

इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल, एंटी कार्सिनोजेनिक, एंटी डायबिटिक गुण पाए जाते हैं जो किडनी से सम्बंधित डायबिटीज के खतरे को कम करते हैं तथा किडनी रोग की समस्याओं को कम करने में लाभकारी होते हैं.

2.6. करेला (Bitter gourd)

कुछ सब्जियां खाने में स्वादिष्ट नहीं होती हैं लेकिन वे किसी औषधि से कम नहीं होती हैं. करेला एक ऐसी सब्जी है जिसमे ढेरों फायदे छुपे होते हैं.

किडनी की समस्या में करेले का इस्तेमाल फायदेमंद माना जाता है. आप आहार में करेले की सब्जी इसका उबला हुआ पानी या रस का उपयोग कर सकते हैं.

करेला किडनी को सक्रिय कर अपशिष्ट पदार्थों को शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है साथ ही किडनी के काम करने की सक्रियता को भी बढ़ाता है.

2.7. टिंडा (Apple gourd)

टिंडे की सब्जी अधिक स्वादिष्ट नहीं होती है लेकिन यह शरीर की कई समस्याओं को कम करने में फायदेमंद होती है.

किडनी के मरीज आहार में टिंडे की सब्जी को खा सकते हैं क्योंकि इसमें अधिक मात्रा में पानी होता है, जो शरीर के अंदरूनी अंगों में पर्याप्त हाइड्रेशन बनाए रखता है एवं किडनी में जमा अपशिष्ट पदार्थों को पेशाब के द्वारा बाहर निकालने में मदद करता है.

3. किडनी रोग में खाएं ये धान्य (Eat this cereal in kidney disease)

किडनी बचाव के उपाय में आहार एक बड़ी भूमिका निभाता है. आप डाइट में कौन से अनाज को शामिल कर सकते हैं यह जानना बेहद जरूरी है.

अनाज में पाए जाने वाले खनिज तत्व किडनी की समस्या को बढ़ा भी सकते हैं और कम भी कर सकते हैं. इसलिए अपने आहार में केवल उन्हीं धान्य को शामिल करें जिसमें पोटेशियम, फास्फोरस और नमक की मात्रा कम पाई जाती हो.

किडनी पेशेंट अपनी डाइट में इन अनाज को शामिल कर सकते हैं जो इस प्रकार हैं.

  ➮ गेहूं.
  ➮ मक्का.
  ➮ जौ.
  ➮ चावल.
  ➮ साबूदाना एवं इससे बने हुए खाद पदार्थ.

4. किडनी रोगी खाएं ये दालें (kidney patient eat these pulses)

जो लोग किडनी की समस्या से गुजर रहे होते हैं उन्हें परहेज का विशेष ख्याल रखना पड़ता है. किडनी के आहार में यदि दालों की बात की जाए तो आप इन दालों को खा सकते हैं जैसे कि

  ➮ मूंग दाल.
  ➮ अरहर दाल.
  ➮ मसूर दाल.

किडनी रोग के लिए अन्य खाद्य पदार्थ | Other foods for kidney disease in hindi

किडनी बीमारी से पीड़ित लोग अपनी डाइट में इन खाद पदार्थों को भी शामिल कर सकते हैं जो इस प्रकार हैं.

➮ सरसों का तेल.
➮ अखरोट.
➮ लहसुन, प्याज.
➮ जैतून का तेल.
➮ मूली, शलजम.
➮ लाल अंगूर, चेरी.
➮ अंडे का सफेद भाग.
➮ नींबू, गाजर, ककड़ी.
➮ नारियल पानी.
➮ इलायची.
➮ एलोवेरा, व्हीटग्रास, गिलोय का जूस.

किडनी बीमारी में क्या नहीं खाना चाहिए | what not to eat in kidney disease in hindi

बहुत सी बीमारियां ऐसी होती हैं जिनमें दवाइयों के साथ-साथ खानपान का विशेष तौर से ध्यान रखना पड़ता है. अगर हम खानपान या परहेज का सही रूप से ध्यान नहीं रखेंगे तो यह बीमारी को और बढ़ा सकता है.

आइए जानते हैं किडनी रोग में क्या ना खाएं?

फल - आम, केला, संतरा, मौसमी, कच्चे नारियल, चीकू, अमरूद, प्लम.

सब्जियां- चुकंदर, हरी मेथी, पालक, बैंगन, कद्दू, सरसों का साग.

अनाज - सभी प्रकार के चोकर युक्त धान्य.

सूखे मेवे - काजू, मूंगफली, पिस्ता, खजूर, मुनक्का.

दालें - उड़द.

वसा - घी, मक्खन, चिकन, मछली, मटन.

निष्कर्ष | Conclusion

शरीर के बाकी अंगों की तरह किडनी भी एक महत्वपूर्ण अंग है जो शरीर में उपस्थित विषाक्त पदार्थों को पेशाब के द्वारा बाहर निकालती है.

परंतु जब किडनी में सूजन या अपशिष्ट पदार्थ बाहर नहीं निकल पाते हैं तो किडनी फेल होने की समस्या उत्पन्न होने लगती है.

किडनी के संबंधित बीमारियों में दवाइयों के साथ-साथ खानपान अहम भूमिका निभाता है.

इसलिए इस लेख के माध्यम से जाना कि किडनी रोग में क्या खाएं और क्या ना खाएं? किसी भी खाद्य पदार्थ का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें और बीमारी का पूर्णता निदान करें.

पूछे जाने वाले प्रश्न | FAQ

Q. किडनी रोग के क्या लक्षण है?

A. किडनी से संबंधित बीमारी में निम्न लक्षण महसूस होते हैं जैसे कि शरीर में सूजन होना, शरीर के अंदर तरल पदार्थों का असंतुलित होना, सांस फूलना, जल्दी थक जाना, शरीर में पीलापन दिखना, वजन धीरे-धीरे कम होना, नींद ना आना, मुंह में बदबू आना, मुंह का स्वाद बिगड़ जाना, मांसपेशियों में ऐंठन व मरोड़ होना, पेशाब की मात्रा में कमी आना, दर्द होना, पेशाब में रुकावट होना, भूख की कमी, मतली, उल्टी होना आदि.

Q. किडनी रोग में क्या खाना चाहिए?

A. किडनी की बीमारी होने पर विशेष तौर से आहार एवं परहेज का ध्यान रखना पड़ता है आप आहार में फलों में अनार, पपीता, अनानास, सेब, अंगूर, स्टोबेरी, चेरी सब्जियों में तोरई, फूल गोभी, बंद गोभी, परवल, टिंडा, शिमला मिर्च, करेला अनाज में गेहूं, मक्का, जौ, चावल, साबूदाना, दालों में मूंग दाल, अरहर दाल, मसूर की दाल का सेवन कर सकते हैं.

Q. किडनी की बीमारी में क्या नहीं खाना चाहिए?

A. किडनी की बीमारी होने पर आहार में कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन नहीं करना चाहिए जैसे कि फलों में आम, केला, संतरा, मौसमी, कच्चे नारियल, चीकू, अमरुद सब्जियों में चुकंदर, हरी मेथी, पालक, बैंगन, कद्दू, सरसों का साग सूखे मेवे में काजू, मूंगफली, पिस्ता, खजूर, मुनक्का वसा में मक्खन, चिकन, मछली, मटन इत्यादि.

Q. किडनी की बीमारी होने पर किस प्रकार के पोषक तत्वों से संपन्न खाद पदार्थों का सेवन करना चाहिए?

A. यदि आप किडनी की बीमारी से गुजर रहे हैं तो आप आहार में पोटेशियम, फास्फोरस और नमक युक्त अधिक खाद पदार्थों का सेवन ना करें.

Q. किडनी की बीमारी होने पर कौन सा जूस पीना चाहिए?

A. किडनी की समस्या को कम करने के लिए आप आहार में एलोवेरा, व्हीट ग्रास एवं गिलोय के जूस का सेवन करते रहना अमृत के समान लाभ देता है.

और भी जाने (know more).. 

Post a Comment