November 19, 2021

विटामिन ई फल और सब्जियों की सूची | List of Vitamin E Fruits and Vegetables in hindi

विटामिन ई फल और सब्जियों की सूची | List of Vitamin E Fruits and Vegetables in hindi

शरीर की अंदरूनी कार्य प्रणालियों को सुगमता पूर्वक संचालित करने के लिए कई प्रकार के पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है उनमे से एक विटामिन ई है, जो शरीर को स्वस्थ रखने में अहम भूमिका निभाता है.

जब लोगों के शरीर में विटामिन ई की कमी होने लगती है तो वह कई तरह की सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने लगते हैं जो शरीर के लिए हानिकारक भी साबित हो सकती हैं.

अतः विटामिन ई की कमी को पूरा करने के लिए आप आहार में विटामिन ई युक्त फल और सब्जियों का नियमित रूप से सेवन कर सकते हैं.

इसलिए इस लेख में हम विटामिन ई युक्त फल और सब्जियां के नाम एवं उनकी मात्राओं के बारे में जानेंगे.


    विटामिन ई क्या है | what is vitamin e in hindi

    शरीर में आंतरिक प्रक्रियाओं के लिए विटामिन ई आवश्यक तत्व माना जाता है जो खून में लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने का काम करता है.

    यह शरीर में अनेक अंगों को सामान्य रूप से बनाये एवं स्वस्थ रखने में मदद करता है.

    विटामिन ई एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करके बाहरी वायरस से शरीर को जल्द प्रभावित होने से बचाता है, शरीर में फैटी एसिड का संतुलन बनाए रखता है.

    नियमित रूप से विटामिन ई के सेवन से शरीर में रक्त वाहिकाओं चौड़ी होती है जिससे कोशिकाओं के अंदर खून नहीं जमता है एवं शरीर में लिपिड की संरचना को भी बनाए रखता है.

    विटामिन ई की कमी से होने वाले रोग | Diseases caused by Vitamin E deficiency in hindi

    जब शरीर में विटामिन ई की कमी होने लगती है तो इससे कई तरह की गंभीर बीमारियां उत्पन्न होने लगती हैं जो इस प्रकार है.

    ➭ मांसपेशियों में दर्द होना.

    ➭ कमजोरी और थकान महसूस करना.

    ➭ पाचन शक्ति का कमजोर होना.

    ➭ शरीर में खून की कमी होना.

    ➭ बालों का अधिक मात्रा में झड़ना.

    ➭ आंखों की रोशनी का कम होना.

    ➭ मस्तिष्क की तंत्रिकाओं का कमजोर पड़ना.

    ➭ रोग प्रतिरोधक क्षमता का कमजोर पड़ना आदि.

    विटामिन ई युक्त फल | Vitamin E rich fruits in hindi

    शरीर में विटामिन ई की कमी को पूरा करने के लिए आहार में फलों का सेवन करना फायदेमंद होता है जिससे शरीर को न सिर्फ विटामिन ई बल्कि अन्य पोषक तत्व भी मिलते है.

    आइए जानते हैं विटामिन ई फलों की सूची.

    1. रसबेरी (raspberry)

    स्वाद से भरी हुई रसभरी विटामिन ई का समृद्ध स्रोत होने के अलावा कई फाइटोन्यूट्रिएंट्स से भरपूर होती है.

    कई वैज्ञानिक अध्ययनों से यह पता चला है कि इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट यौगिक कैंसर, सूजन और उम्र बढ़ने के इलाज में अहम भूमिका निभाते हैं.

    रसभरी की ORAC मूल्य लगभग 4900 माइक्रोमोल टीई पर 100 ग्राम होती है, जो किसी भी खाद्य पदार्थ की एंटीऑक्सीडेंट क्षमता मापने का पैमाना है.

    अगर आप एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट फल का सेवन करना चाहते हैं तो रसबेरी को सूची में शामिल कर सकते हैं.

    प्रति 100 ग्राम रसबेरी में 1.42 मिलीग्राम विटामिन ई मौजूद होता है, जो त्वचा और बालों की कई समस्याओं को दूर करने में लाभकारी होता है.

    2. शहतूत (mulberries)

    एक दमकती त्वचा और बालों की समस्याओं को कम करने के लिए विटामिंस ई की आवश्यकता होती है, जो आप आसानी से विटामिन ई युक्त फलों के सेवन से प्राप्त कर सकते हैं.

    शहतूत एक ऐसा फल है जिसमें विटामिन ई की प्रबल मात्रा मौजूद होती है.

    इसमें विटामिन सी की प्रति 100 ग्राम 36.4 मिलीग्राम मात्रा होती है, जो शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट के रूप में शरीर से हानिकारक मुक्त कणों को खत्म करने में मदद करते है.

    शहतूत में बीटा-कैरोटीन, ए-कैरोटीन, ल्यूटिन, ज़ेक्सैन्थिन, आयरन, मैग्नीज, मैग्नीशियम जैसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व पाए जाते हैं जो कई गंभीर बीमारियों के जोखिम को कम करने में लाभदायक है.

    प्रति 100 ग्राम शहतूत में 0.87 मिलीग्राम विटामिन ई मौजूद होता है.

    3. ब्लैकबेरी (Blackberry)

    ब्लैकबेरी कई विटामिंस, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट तत्वों से भरपूर फल है जो शरीर को स्वस्थ रखने में उत्कृष्ट योगदान देता है.

    ब्लैकबेरी विटामिन ई का सर्वोत्तम स्रोत होने के अलावा विटामिन सी, के, ए, राइबोफ्लेविन, नियासिन, फोलेट, डाइटरी फाइबर, कैल्शियम, मैग्नीशियम और जिंक जैसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं.

    ब्लैकबेरी फल एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होने के कारण कैंसर, सूजन, उम्र बढ़ने और तंत्रिका संबंधी बीमारियों के खिलाफ से लड़ने में शरीर की मदद करता है.

    प्रति 100 ग्राम ब्लैकबेरी में 0.57 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.

    4. एवोकाडो (avocado)

    एवोकाडो फल का सेवन स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक है.

    इसमें विटामिन ई का स्रोत होने के साथ-साथ कैल्शियम, कॉपर, मैग्नीशियम, विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन के, एनर्जी, फाइबर और प्रोटीन जैसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व मौजूद होते हैं.

    इन सभी पोषक तत्वों की प्राप्ति होने से शरीर से कई गंभीर बीमारियों के जोखिम को कम व नियंत्रित किया जा सकता है जैसे कि खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने, आंखों की समस्या, अर्थराइटिस की बीमारी, हृदय रोग और रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद मिलती है.

    प्रति 100 ग्राम एवोकाडो में 2.07 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.

    5. कीवी फल (Kiwi fruit)

    विटामिन ई त्वचा और बालों के लिए काफी असरदार माना जाता है.

    जब शरीर में विटामिन ई की कमी होने लगती है तब बालों और त्वचा से संबंधी कई बीमारियां उत्पन्न होने लगती हैं ऐसे में विटामिन ई युक्त फलों के खाने की सलाह दी जाती है.

    विटामिन ई का स्रोत होने के अलावा, कीवी फल पोटेशियम, विटामिन C, A, K, एंटीऑक्सीडेंट्स, कॉपर, प्रोटीन, कैल्शियम, जिंक और भी कई ऐसे खनिज तत्व पाए जाते हैं जो शरीर को स्वस्थ रखने के लिए अहम भूमिका निभाते हैं.

    कीवी फल एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है क्योंकि इसमें प्रचुर मात्रा में विटामिन सी होता है जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है.

    प्रति 100 ग्राम कीवी फल में 1.46 मिलीग्राम विटामिन ई मौजूद होता है.

    अतः इस आधार पर कह सकते हैं कि शरीर को स्वस्थ रखने के लिए आहार में कीवी फल का सेवन अवश्य करना चाहिए.

    6. अमरूद (Guava)

    अमरूद बाजार में आसानी से मिलने वाला फल है, जो कई विटामिन, खनिज तत्व, एंटीऑक्सीडेंट, पॉलिफिनॉलिक यौगिक से समृद्ध है, जो कैंसर, उम्र बढ़ने और बाहरी संक्रमण से रोकथाम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं.

    अमरूद फल डाइटरी फाइबर का समृद्ध स्रोत होता है जो पाचन क्रिया बेहतर रूप से संचालित करने में और मल को आसानी से त्यागने में मदद करता है.

    इसमें विटामिन ई के अलावा, विटामिन सी, विटामिन ए, विटामिन के, पोटेशियम मैग्नीशियम, फास्फोरस, सेलेनियम, कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन जैसे कई महत्वपूर्ण पोषक तत्व मौजूद होते हैं.

    प्रति 100 ग्राम अमरूद में 0.73 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.

    7. अनार (Pomegranate)

    शरीर में रोगों के जोखिम को कम करने के लिए अन्य पोषक तत्वों की तुलना में विटामिन ई भी आवश्यक तत्व है.

    यदि प्रतिदिन आहार में ऐसे फलों का सेवन करते हैं जिनसे विटामिन ई की प्राप्ति होती है तो इससे कई लाभ होते हैं, जैसे कि बालों और त्वचा से संबंधी समस्याओं को दूर करने, खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने, आंखों की रोशनी की समस्या, कमजोरी दूर करने और हड्डियों की मजबूती आदि.

    कई विशेषज्ञ वजन कम करने, शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने और शरीर में नई कोशिकाओं के निर्माण के लिए आहार में अनार खाने की सलाह देते हैं.

    प्रति 100 ग्राम अनार में 0.60 मिलीग्राम विटामिन ई मौजूद होता है.

    विटामिन ई फल और सब्जियों की सूची | List of Vitamin E Fruits and Vegetables in hindi
    विटामिन ई युक्त फल-Vitamin E rich fruits

    8. पपीता (Papaya)

    पपीता खाने में जितना स्वादिष्ट है उतना ही स्वास्थ्यवर्धक फल है. पपीता सेहत के लिए एक औषधि के रूप में कार्य करता है क्योंकि इसमें मौजूद विटामिन और खनिज तत्व कई गंभीर बीमारियों को कम करने में मदद कर सकते हैं.

    पपीता मे विटामिन ई की अच्छी मात्रा मौजूद होती है जो त्वचा और बालों एवं आंखों के लिए लाभदायक होते हैं.

    इसके अलावा इसमें मौजूद विटामिन ए उम्र बढ़ने, स्वस्थ दृष्टि और विभिन्न रोगो को दूर करने एवं एंटीऑक्सीडेंट शरीर से हानिकारक कणों को बाहर निकालने में मदद करते हैं.

    कैरोटीन से भरपूर पपीता फल शरीर को फेफड़ों के कैंसर से बचाने में भी मदद कर सकते हैं.

    प्रति 100 ग्राम पपीता में 0.30 मिलीग्राम विटामिन ई मौजूद होता है.

    9. सेब (Apple)

    सेब को भी विटामिन ई फलों की सूची मे शामिल किया जा सकता है क्योंकि इसमें भी एक अच्छी मात्रा में विटामिन ई मौजूद होता है.

    सेब विटामिन सी एवं बीटा-कैरोटीन का भी समृद्ध स्रोत है जो शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट के रूप में शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करते हैं.

    इसके अलावा इसमें पोटेशियम, फॉस्फोरस और कैल्शियम जैसे खनिज तत्व मौजूद होते हैं जो शरीर के तरल पदार्थों के लिए महत्वपूर्ण घटक है जो हृदय गति और रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करते हैं.

    प्रति 100 ग्राम सेब में 0.18 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.

    10. आम (Mango)

    विटामिन ई की प्राप्ति के लिए आप आहार में आम को भी शामिल कर सकते हैं क्योंकि प्रति 100 ग्राम आम में 0.09 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.

    इसके अलावा इसमें कार्बोहाइड्रेट, विटामिन सी, ए, के, पोटेशियम, कॉपर, आयरन, कैल्शियम और जिंक का भी समृद्ध स्रोत मौजूद होता है.

    विटामिन सी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है जो आम में भरपूर मात्रा में मौजूद होता है जो शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने और शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है.

    11. लीची (Lychee)

    विटामिन ई पोषक तत्वों को प्राप्त करने के लिए लीची फल को भी आहार में शामिल किया जा सकता है, क्योंकि प्रति 100 ग्राम लीची में 0.07 मिलीग्राम विटामिन ई मौजूद होता है.

    इसके अलावा प्रोटीन, एनर्जी, कार्बोहाइड्रेट, विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन के, पोटैशियम, मैग्निशियम, कॉपर, जिंक और सेलेनियम का भी समृद्ध स्रोत होता है जो शरीर की अंदरूनी क्रियाओं को सुगमता पूर्वक संचालित करने के लिए आवश्यक होते हैं.

    विटामिन ई युक्त फलों की मात्रा – (Vitamin E-rich fruits Per 100 g in hindi)

    फल (Fruits) मात्रा (Quantity)
    रसबेरी (raspberry) 1.42 mg
    शहतूत (mulberries) 0.87 mg
    ब्लैकबेरी (Blackberry) 0.57 mg
    एवोकाडो (Avocado) 2.07 mg
    कीवी फल (Kiwi fruit) 1.46 mg
    अमरूद (Guava) 0.73 mg
    अनार (Pomegranate) 0.60 mg
    पपीता (Papaya) 0.30 mg
    लीची (Lychee) 0.07 mg
    सेब (Apple) 0.18 mg
    आम (Mango) 0.09 mg

    विटामिन ई युक्त सब्जियां | Vitamin E rich vegetables in hindi

    अगर आप विटामिन ई रिच फूड्स की तलाश में है तो आप इन सब्जियों को डाइट में शामिल करके रोजाना विटामिन ई का एक अच्छा स्रोत प्राप्त कर सकते हैं.

    1. पालक (spinach)

    यदि आप रोजाना पालक का सेवन करते हैं तो इससे ना केवल विटामिन ई की प्राप्ति होती है बल्कि कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, मैग्नीज, पोटेशियम, सोडियम, विटामिन ए, सी, के, डाइटरी फाइबर, प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट का भी अच्छा स्रोत हैं.

    शरीर में खून की कमी को पूरा करने एवं विटामिन ई से होने वाली बीमारी को दूर करने के लिए पालक का सेवन बेहद लाभदायक है.

    संक्षेप में कहा जाए तो पालक के अंदर प्रचुर मात्रा में विटामिंस और खनिज तत्व का खजाना मौजूद है जो शरीर को स्वस्थ रखने के लिए अहम भूमिका निभाते हैं.

    प्रति 100 ग्राम पालक में 2.03 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.

    2. शिमला मिर्च (Bell pepper)

    विटामिन ई का अच्छा स्रोत प्राप्त करने के लिए शिमला मिर्च को भी दैनिक आहार में जरूर शामिल करें.

    यह कई फाइटोन्यूट्रिएंट्स, एंटीऑक्सीडेंट, बीटा-कैरोटीन, ल्यूटिन और कई खनिज तत्वों से संपन्न है जो शरीर की अंदरूनी क्रियाओं को सुगमता पूर्वक संचालित करने के लिए आवश्यक होते हैं.

    अगर हम प्रतिदिन 100 ग्राम शिमला मिर्च का सेवन करते हैं तो इससे 11 प्रतिशतता दैनिक अनुशासित आहार भत्ता प्राप्त होता है.

    शिमला मिर्च विटामिन ई का स्रोत होने के अलावा विटामिन ए, विटामिन सी, पोटेशियम, कैल्शियम, फॉस्फोरस, मैग्नीशियम, प्रोटीन और डाइटरी फाइबर का भी समृद्ध स्रोत है.

    हर 100 ग्राम शिमला मिर्च में 1.58 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.

    3. ब्रोकली (broccoli)

    ब्रोकली की सब्जी को भी विटामिन ई के स्रोत में शामिल किया जा सकता है.

    इसमें विटामिन ई का अच्छा स्रोत होने के अलावा कई महत्वपूर्ण विटामिन ,फाइटोन्यूट्रिएंट्स, सल्फोराफ़ने, ल्यूटिन, बीटाकैरोटीन, एंटीऑक्सीडेंट, अल्फा-कैरोटीन का भी अच्छा स्रोत होता है.

    यदि आप रोजाना ब्रोकोली की सब्जी को आहार में शामिल करते हैं तो इससे विटामिन ई की कमी को पूरा किया जा सकता है.

    सभी प्रकार की हरी सब्जियां खनिज तत्वों का भंडार होती है जो अलग-अलग प्रकार के विटामिनों की कमी से होने वाली रोगो को दूर करने में सक्षम हो सकती है.

    प्रति 100 ग्राम ब्रोकोली मे 0.17 मिलीग्राम विटामिन होता है.

    4. शतावरी (asparagus)

    शतावरी का सेवन भी विटामिन ई का अच्छा स्रोत है. यह बहुत ही कम कैलोरी वाली सब्जी है जिसे आप अपने वजन कम करने की डाइट में भी फॉलो कर सकते हैं.

    इसमें डाइटरी फाइबर की अच्छी मात्रा होती है जो कब्ज की समस्या से निपटने एवं खराब कोलेस्ट्रॉल को शरीर से बाहर निकालने में मदद करते हैं.

    यदि आप प्रतिदिन सौ ग्राम शतावरी सब्जी का सेवन करते हैं तो इससे दैनिक स्तर पर 7.5 प्रतिशत विटामिन ई की प्राप्ति होती है एवं 100 ग्राम शतावरी में 1.13 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.

    इसका सेवन लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन के लिए भी बहुत फायदेमंद है.

    विटामिन ई फल और सब्जियों की सूची | List of Vitamin E Fruits and Vegetables in hindi
    विटामिन ई युक्त सब्जियां-Vitamin E rich vegetables

    5. हरा कोलार्ड (collard greens)

    कोलार्ड की पत्ती विटामिन ई का बेहतरीन स्रोत है जिसके सेवन से आप विटामिन ई की कमी से होने वाली बीमारियां के जोखिम को दूर कर सकते हैं.

    इसकी हरी पत्तियों में घुलनशील और अघुलनशील डाइटरी फाइबर होते हैं जो खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और पाचन क्रिया को मजबूत करने में मदद करते हैं.

    यदि आप प्रतिदिन 100 ग्राम कोलार्ड पत्ते का सेवन करते हैं तो इससे आपको दैनिक अनुशासित आहार भत्ते का 15% विटामिन ई प्राप्त होता है.

    इसके अलावा हड्डियों की मजबूती के लिए प्रति 100 ग्राम 232 मिलीग्राम कैल्शियम, खून की कमी को पूरा करने के लिए 0. 47 मिलीग्राम आयरन, रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने के लिए 35.3 मिलीग्राम विटामिन सी, स्वस्थ आंखों की दृष्टि के लिए 5019 IU विटामिन ए जैसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व मौजूद होते हैं.

    हर 100 ग्राम कोलार्ड पत्ते में 2.26 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.

    अतः इस आधार पर विटामिन ई रिच फूड्स में आप कोलार्ड के पत्ते को शामिल कर सकते हैं.

    6.कद्दू (Pumpkin)

    कई सब्जियों की तरह कद्दू की सब्जी भी विटामिन ई का समृद्ध स्रोत होने के साथ-साथ विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन ई और कई एंटीऑक्सीडेंट का भंडार है.

    कई विशेषज्ञ कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रण करने और वजन घटाने के लिए की डाइट में कद्दू खाने की सलाह देते हैं.

    कद्दू की सब्जी जितनी फायदेमंद होती है उतने ही इसके बीज भी फायदेमंद है जो कई फाइटोन्यूट्रिएंट्स का उत्कृष्ट भंडार होते हैं.

    यदि आप प्रतिदिन 100 ग्राम कद्दू का सेवन करते हैं तो इससे दैनिक आहार अनुशासित भत्ते का 7% विटामिन ई प्राप्त होता है एवं सौ ग्राम कद्दू में 1.06 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.

    7. लाइमा बीन्स (lima beans)

    लाइमा बीन्स विटामिन ई का समृद्ध स्रोत होने के अलावा प्रोटीन, ऊर्जा, कार्बोहाइड्रेट और कैल्शियम का भी मुख्य स्रोत है.

    शरीर में विटामिन ई एवं प्रोटीन की कमी को पूरा करने के लिए आप आहार में लाइमा बीन्स को जरूर शामिल करें. 

    हर रोज यदि आप सौ ग्राम लाइमा बीन्स का सेवन करते हैं तो प्रतिदिन अनुशासित भत्ते का 5% विटामिन ई शरीर को मिलता है एवं 100 ग्राम लाइमा बीन्स में 0.72 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.

    8. टमाटर (Tomato)

    विटामिन ई रिच फूड्स की लिस्ट में टमाटर को भी शामिल कर सकते हैं. यदि आप प्रतिदिन 100 ग्राम टमाटर का सेवन करते हैं तो इससे दैनिक स्तर का पर 4% विटामिन ई प्राप्त होता है.

    टमाटर में विटामिन ई होने के साथ साथ विटामिन ए, विटामिन सी, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, बीटा कैरोटीन और अल्फा कैरोटीन की मात्रा भी भरपूर होती है.

    प्रति 100 ग्राम टमाटर में 0.54 मिलीग्राम विटामिन ई होता है.

    विटामिन ई युक्त सब्जियों की मात्रा – (Vitamin E-rich vegetables Per 100 g in hindi)

    सब्जियां (vegetables) मात्रा (Quantity)
    पालक (spinach) 2.03 mg
    शतावरी (asparagus) 1.13 mg
    ब्रोकली (broccoli) 0.17 mg
    शिमला मिर्च (Bell pepper) 1.58 mg
    हरा कोलार्ड (collard greens) 2.26 mg
    लाइमा बीन्स (lima beans) 0.72 mg
    टमाटर (Tomato) 0.54 mg
    कद्दू (Pumpkin) 1.06 mg

    आखिरी शब्द | last word

    शरीर को पूर्ण रूप से स्वस्थ रखने के लिए कई प्रकार के विटामिंस की आवश्यकता होती है उन्हीं में से एक है विटामिन ई.

    जब शरीर में विटामिन ई की कमी होती है तो इससे संबंधी कई प्रकार की बीमारियां देखी जा सकती हैं. अतः इन बीमारियों के जोखिम से बचने के लिए आहार मे विटामिन ई युक्त फल और सब्जियों को जरूर शामिल करें.

    इसलिए इस लेख में जाना कि विटामिन ई रिच फूड्स के लिए आप किन फल और सब्जियों को आहार में शामिल कर सकते हैं.

    पूछे जाने वाले प्रश्न | FAQ

    Q. विटामिन ई युक्त फल की सूची बताएं.

    A. विटामिन ई युक्त फलों के लिए आप आहार में कीवी, अनार, पपीता, लीची, स्ट्रॉबेरी, आम, अनार, अमरूद, एवोकाडो, ब्लैकबेरी, शहतूत और रसबेरी आदि फलों को शामिल कर सकते हैं.

    Q. विटामिन ई युक्त सब्जियां कौन सी हैं?

    A. विटामिन ई युक्त सब्जियों में आप ब्रोकली, पालक, टमाटर, कद्दू, लाइमा बीन्स, हरा कोलार्ड, शतावरी और शिमला मिर्च आदि को शामिल कर सकते हैं.

    Q. विटामिन ई क्या है?

    A. शरीर की आंतरिक प्रक्रियाओं के संचालन के लिए विटामिन ई आवश्यक तत्व माना जाता है, जो खून में लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने का काम करता है. यह एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट के रूप में शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है.

    Q. विटामिन ई की कमी से कौन से रोग होते हैं?

    A. जब शरीर में विटामिन ई की कमी होने लगती है तो शरीर में कई बीमारियां हो सकती हैं जैसे कि त्वचा का रूखापन, बालों का झड़ना, हड्डियों में कमजोरी होना, थकान और कमजोरी महसूस होना, पाचन शक्ति कमजोर होना, आंखों की रोशनी कम होना, मस्तिष्क की तंत्रिकाओं और प्रतिरोधक क्षमता का कमजोर पड़ना आदि.

    और भी जाने (know more)..

    ➭ इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए खाएं ये फल.
    ➭ टेंशन फ्री  कैसे रहें?
    ➭ भूख बढ़ाने के घरेलू उपाय और लक्षण.
    ➭ स्वस्थ रहने के नियम एवं हेल्थ टिप्स.

    Share Post

    0 Comments: