October 23, 2021

ठंड के मौसम में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं - What to eat and what not to eat in winter in hindi?

ठंड के मौसम में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं - What to eat and what not to eat in winter in hindi?

सर्दियों के मौसम में क्या खाएं और क्या नहीं सबसे ज्यादा चिंता इस बात की रहती है. दरअसल सर्दियों में खानपान का विशेष तौर से ध्यान रखना पड़ता है थोड़ी सी ही लापरवाही स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकती है.

सर्दियों में ठंड से बचाव के लिए बाहरी तौर पर गर्म कपड़ों का इस्तेमाल कर लेते हैं लेकिन शरीर को अंदरूनी गर्माहट नहीं मिलती है जिसके कारण सर्दी, खांसी, जुखाम, बुखार और वायरल फीवर जैसी बीमारियां की समस्या बढ़ने लगती है.

इन समस्याओं के निदान के लिए विशेष तौर पर आहार में उन सभी खाद्य पदार्थों को शामिल करें जिनकी तासीर गर्म होती है जो इम्यून सिस्टम को मजबूत करके बाहरी संक्रमण से शरीर की रक्षा करें.

किसी भी बीमारी या वायरल से लड़ने के लिए शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता का मजबूत होना बेहद आवश्यक है. 

आइए अब विस्तार से जानते हैं कि ठंड में ऐसे कौन से खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जो शरीर को स्वस्थ रखने के लिए आवश्यक होते हैं?


    सर्दियों में क्या खाएं | what to eat in winter in hindi?

    सर्दियों में बाहरी संक्रमण से बचने एवं शरीर को स्वस्थ रखने के लिए आहार में उन खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जिनकी तासीर गर्म हो, क्योंकि इनके सेवन से शरीर को अंदरूनी गर्माहट मिलने में मदद मिलती है.

    चलिए जानते हैं सर्दी में क्या चीज खानी चाहिए?

    1. ठंड में खाएं शहद (eat honey in winter)

    सर्दियों के मौसम में शहद का उपयोग किसी दवाई से कम नहीं क्योंकि शहद अपने आप में ही एक प्राकृतिक औषधि है.

    शहद में विटामिन, मिनरल्स, एंटीऑक्सीडेंट, एंटीबायोटिक और कई तरह के उपयोगी पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो शरीर की इम्यूनिटी पावर को बढ़ाकर अंदरूनी गर्माहट पैदा करते हैं साथ ही शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालते हैं.

    प्रतिदिन सुबह गुनगुने पानी में एक चम्मच शहद का उपयोग करने से सांस संबंधी संक्रमण और खांसी जैसे संक्रमण से बचाव के लिए शहद का उपयोग करना लाभकारी साबित हो सकता है.

    2. लहसुन का उपयोग (uses of garlic)

    सर्दियों के आहार में लहसुन का उपयोग जरूर शामिल करें क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है और यह बैक्टीरिया, वायरस तथा फंगस के विरुद्ध लड़ने में बहुत सहायक है.

    लहसुन में कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, एंटीऑक्सीडेंट, एंटीवायरल, एंटीफंगल, विटामिंस और कई तरह की खनिज तत्व होते हैं जो सर्दी, जुखाम, दर्द, सूजन जैसी बीमारियों से लड़ने में मदद करते हैं.

    लहसुन का उपयोग प्राकृतिक औषधि के रूप में करने से कई गंभीर बीमारियों के जोखिम से बचा जा सकता है. अतः आहार में लहसुन का उपयोग सब्जी, कच्चा या चटनी बनाकर कर सकते है.

    3. गाजर (Carrot)

    ठंड के मौसम में गाजर का सेवन शरीर को स्वस्थ रखने एवं कई बीमारियों को दूर रखने के लिए लाभदायक है.

    गाजर में कई तरह के विटामिन, बीटा कैरोटीन, अल्फा कैरोटीन, एंटीऑक्सीडेंट, एंटी इन्फ्लेमेटरी, एंटीएलर्जी, मिनरल्स मौजूद होते हैं.

    गाजर की तासीर गर्म होती है जिस कारण शरीर को अंदरूनी गर्माहट मिलती है और साथ ही प्रतिरक्षा प्रणाली भी मजबूत होती है.

    गाजर का उपयोग आंखों के लिए भी फायदेमंद होता है.

    4. अदरक (Garlic)

    सर्दियों में शरीर की गर्माहट बनाए रखने के लिए अदरक का उपयोग बेहद लाभकारी साबित हो सकता है.

    इसमें विटामिंस, एंटीऑक्सीडेंट्स, एंटीएलर्जी, एंटीवायरल एवं खनिज तत्व मौजूद होते हैं जो शरीर की इम्यूनिटी को मजबूत करके छोटी-छोटी बीमारियां जैसे कि खांसी, जुखाम, बुखार से बचाने में सहायक होते हैं.

    अदरक की तासीर गर्म होती है इसलिए सर्दियों में इसका उपयोग अदरक की चाय के रूप में या अदरक और गुड़ की चटनी बनाकर भी किया जा सकता हैं.

    ठंडो में सांस और पेट संबंधित संक्रमण के उपचार के लिए अदरक एक बेहतरीन घरेलू औषधि के रूप में लाभकारी है.

    5. हल्दी (Turmeric)

    हल्दी का उपयोग सर्दियों में एक रामबाण औषधि के रूप में कर सकते हैं. हल्दी की तासीर गर्म होने से शरीर को अंदरूनी गर्माहट और ताकत मिलती है.

    हल्दी कई गुणकारी गुणों से भरपूर होती है जो कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ने में भी बचाव कर सकती है.

    हल्दी में करकमिन, एंटीबायोटिक, एंटीडायबिटिक, एंटीकैंसर गुण पाए जाते हैं जो किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचाव कर सकते हैं.

    एक गिलास दूध में हल्दी के पाउडर को मिलाकर पीने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है जिससे बाहरी संक्रमण से संक्रमित होने का खतरा कम रहता है.

    6. हरी सब्जियां (Green vegetables)

    सर्दी के मौसम में छोटी-छोटी बीमारियों से बचने के लिए एवं प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने के लिए हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन बेहद लाभदायक होता है.

    हरी सब्जियों में कई तरह के विटामिन, एंटीऑक्सीडेंट्स, फोलेट, मैग्नीशियम, आयरन और कई तरह के औषधीय गुण मौजूद होते हैं जो कई प्रकार की समस्याओं से बचाव कर सकते हैं.

    ठंड के मौसम में बाजार में कई तरह की हरी पत्तेदार सब्जियां को आहार में शामिल कर सकते हैं जैसे कि पालक, मेथी, सरसों का साग, पत्ता गोभी, ब्रोकली, मूली के पत्तों की सब्जी, करेला और हरे प्याज की सब्जी इत्यादि.

    7. एवोकाडो (Avocado)

    एवोकाडो फल का सेवन सर्दियों में लाभकारी साबित हो सकता है.

    इसमें फाइबर, पोटैशियम, सोडियम, विटामिन ए, सी, मैग्नीशियम, आयरन, फोलेट जैसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो शरीर के अंदरूनी गर्माहट एवं प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करके बाहरी संक्रमण से बचाव करने में सहायक होते हैं.

    ठंड के मौसम में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं - What to eat and what not to eat in winter in hindi?
    सर्दियों में खाए जाने वाले खाद्य पदार्थ (foods to eat in winter)

    8. सर्दियों में खाएं गुड़ (eat jaggery in winter)

    सर्दियां शुरू होते ही बाजार में गुड़ की मांग बढ़ने लगती है. गुड़ की तासीर गर्म होती है एवं इसमें वह सभी तत्व पाए जाते हैं जो ठंड के मौसम में शरीर को स्वस्थ रखने के लिए उपयोगी होते हैं.

    गुड़ में शुगर, आयरन, कैल्शियम, फास्फोरस, पोटेशियम, मैग्नीशियम और विटामिंस भी होते हैं.

    गुड़ घरेलू औषधि के रूप में सर्दी, खांसी, जुखाम से बचाने के लिए साथ ही पाचन क्रिया को दुरुस्त करने के लिए बहुत उपयोगी है.

    गुड को अदरक के साथ गर्म करके चटनी के रूप में खाने से गले में मौजूद कफ, जलन व खांसी में आराम मिलता है. सर्दियों में शरीर को स्वस्थ रखने के लिए गुड़ का सेवन अवश्य करें.

    9. अजवाइन (Celery)

    ठंड के मौसम में अजवाइन का सेवन किसी घरेलू औषधि से कम नहीं. अजवाइन की तासीर गर्म होती है इसलिए सर्दियों के मौसम में इसका उपयोग फायदेमंद होता है.

    इतना ही नहीं, अजवाइन में प्रोटीन, वसा, फाइबर, आयरन, मिनरल्स, कैल्शियम जैसे पोषक तत्व भी मौजूद होते हैं जो सर्दिओं में शरीर को स्वस्थ रखने के लिए आवश्यक हैं.

    ठंड के मौसम में पेट दर्द, भूख न लगना, पाचन क्रिया को मजबूत करने के लिए ,सर्दी, जुखाम, खांसी इन सबसे बचने के लिए अजवाइन का उपयोग घरेलू औषधि के रूप में भी कर सकते हैं.

    10. ड्राई फ्रूट्स (Dry fruits)

    सर्दियों के मौसम में ड्राई फ्रूट्स का सेवन बेहद लाभदायक होता है. इनकी तासीर गर्म होने से यह शरीर में गर्माहट बनाए रखते हैं.

    ड्राई फ्रूट्स में आप खजूर, किशमिश, अखरोट, अंजीर, बादाम, पिस्ता और काजू का सेवन कर सकते हैं.

    ड्राई फ्रूट्स के सेवन से शरीर स्वस्थ एवं फिट रहता है और कई गंभीर बीमारियों के जोखिम से भी बचा जा सकता है.

    ड्राई फूड्स में पोटेशियम, फाइबर, फोलेट, मैग्नीशियम, आयरन, मैग्नीज, थायमीन पोषक तत्व पाए जाते हैं जो शरीर को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी होते हैं.

    11. अंडा (Egg)

    अंडे का सेवन किसी भी मौसम में किया जा सकता है लेकिन खासकर सर्दियों में अंडे का सेवन फायदेमंद माना जाता है.

    सर्दियों में शरीर को गर्म रखने के लिए ऐसे खाद्य पदार्थों की आवश्यकता होती है जिनमें प्रोटीन, कैल्शियम, कार्ब संतुलित मात्रा में हो.

    ठंड के मौसम में अंडे का सेवन करने से शरीर को अंदरूनी गर्माहट मिलती है, कॉमन कोल्ड का खतरा भी कम रहता है और बाहरी संक्रमण से होने वाली बीमारियां भी नहीं होती हैं.

    इसके अलावा शरीर में कैल्शियम और विटामिन डी की कमी को भी पूरा करने के लिए आहार में अंडे का सेवन अवश्य करें. बच्चों को सर्दी के मौसम में अंडे का सेवन जरूर कराना चाहिए.

    12. तुलसी (Basil)

    तुलसी के पत्ते खांसी, जुकाम, बुखार, वायरल इनफेक्शन और सांस संबंधी संक्रामक रोगों को दूर करने की क्षमता रखते हैं.

    बदलते मौसम में होने वाली संक्रामक बीमारियों से बचाव के लिए तुलसी के पत्तियों को उबालकर या चाय में डालकर पीने से गले के संक्रमण से बचाव होता है एवं शरीर को अंदरूनी भी गर्माहट भी प्राप्त होती है.

    प्राचीन समय से ही तुलसी का उपयोग प्राकृतिक औषधि के रूप में आयुर्वेदिक चिकित्सक और ऋषि मुनि करते आ रहे हैं.

    सर्दियों में क्या नहीं खाना चाहिए | what not to eat in the winter in hindi?

    सर्दियों के मौसम में सेहत का ख्याल रखने के लिए खानपान का विशेष तौर से ध्यान रखना पड़ता है, थोड़ी सी लापरवाही बीमारी की जड़ बन सकती है. तो आइए संक्षिप्त रूप में जानते हैं कि सर्दियों में क्या ना खाएं?

    ➭ सर्दियों में भूख अधिक लगती है इसलिए ओवरईटिंग से बचें अन्यथा यह वजन बढ़ने का कारण हो सकता है.

    ➭ अधिक मात्रा में ऑइली फूड खाना नुकसानदायक हो सकता है.

    ➭ सर्दियों में शक्कर की जगह आप गुड़ का इस्तेमाल करें जो स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी होगा.

    ➭ रात के समय उन खाद्य पदार्थों का सेवन ना करें जिनकी तासीर ठंडी होती है.

    ➭ ठंडो में अधिकतर गर्म तासीर वाले फल या सब्जियों का सेवन करना चाहिए, ठंडी तासीर वाले खाद्य पदार्थों से बचे.

    ➭ अगर आपको पहले से सर्दी-खांसी या जुकाम की समस्या है तो दूध, दही और केले का सेवन कम करें क्योंकि यह गले में कफ को बढ़ा सकता है.

    ➭ ठंड के मौसम में चाय, कॉफी, चॉकलेट, डेयरी उत्पाद पदार्थ, नूडल्स का सेवन अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए. 

    परिणाम | Result

    सर्दियों का मौसम शुरू होते ही जुखाम, खांसी, बुखार, वायरल इनफेक्शन, जैसी बीमारियां भी अपना असर दिखाने लगती है.

    इन बीमारियों का असर कम करने के लिए खानपान में ऐसे खाद्य पदार्थों को शामिल करें जिनकी तासीर गर्म होती है जो शरीर को अंदरूनी गर्मी देकर प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करते है.

    इसलिए इस आर्टिकल के द्वारा जाना कि सर्दियों में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं जिससे शरीर को स्वस्थ रखा जा सके.

    पूछे जाने वाले प्रश्न | FAQ

    Q. सर्दियों के मौसम में क्या खाना चाहिए?

    A. सर्दियों के मौसम में आप आहार में अंडा, ड्राई फ्रूट, अजवाइन, एवोकाडो, हरी सब्जियां, हल्दी, लहसुन और खट्टे फलों का सेवन कर सकते हैं.

    Q. सर्दियों के मौसम में किस तरह के खाद पदार्थों का सेवन करना चाहिए?

    A. सर्दियों का मौसम शुरु होते ही खानपान का विशेष तौर से ध्यान रखना पड़ता है. अतः ठंड के मौसम में गर्म तासीर वाले खाद पदार्थों का सेवन करें.

    Q. सर्दियों में क्या नहीं खाना चाहिए?

    A. सर्दियों के मौसम में अधिक मात्रा में चॉकलेट, डेरी पदार्थ, नूडल्स, दूध, दही, केले, तैलीय पदार्थ और ठंडी तासीर वाले फलों का सेवन नहीं करना चाहिए.

    Q. सर्दियों में कौन सी हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए?

    A. ठंड के मौसम में हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन बेहद लाभकारी होता है. जिसमें पत्ता गोभी, पालक, मेथी, ब्रोकली, सरसों का साग, मूली के पत्तों की सब्जी और हरी मटर का सेवन कर सकते हैं.

    यह भी पढ़ें (read also)..

    ➭ इम्यूनिटी बढ़ाने वाले फल.
    ➭ वजन घटाने के लिए कौन से फल खाएं.
    ➭ सर्दी में खाए जाने वाले फल.
    ➭ स्वस्थ रहने के नियम.

    Share Post

    0 Comments: