May 8, 2021

कैल्शियम की कमी के उपाय, कारण, लक्षण और रोग | calcium deficiency and symptoms in hindi

कैल्शियम की कमी के रोग, कारण, लक्षण और उपाय | calcium deficiency and symptoms in hindi
कैल्शियम की कमी के कारण, लक्षण, इससे होने वाले रोग तथा कमी के उपाय.

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए हर तरह के पोषक तत्वों (Nutrients) की आवश्यकता होती है, जब शरीर में किसी भी प्रकार के पोषक तत्व की कमी होने लगती है तो इसके लक्षण दिखने और महसूस होने लगते हैं.

इन्हीं में से एक पोषक तत्व कैल्शियम होता है जो कि शरीर की हड्डियों और दांतों की देखभाल के लिए बहुत उपयोगी होता है.

इस लेख में हम जानेंगे कैल्शियम की कमी के लक्षण, कैल्शियम की कमी से होने वाले रोग और उपायों के बारे में.

जैसे पेट्रोल वाहन के लिए ईंधन का काम करती है उसी तरह पोषक तत्व भी शरीर के लिए ईंधन का काम करते हैं अगर शरीर को सही रूप से ईंधन ना मिले तो हमें कई तरह की बीमारियों का सामना करना पड़ सकता है.


    शरीर में कैल्शियम का काम | Work of calcium in the body in hindi

    कैल्शियम शरीर की हड्डियों और दातों की मजबूती और उनके रखरखाव के लिए जरूरी खनिज है. जब शरीर में कैल्शियम की कमी होने लगती है तो हड्डियों और दातों से जुड़ी बीमारियों का जोखिम बढ़ जाता है.

    कैल्शियम का शरीर के अंदर कार्य हृदय की गति को नियमित करना, खून का थक्का जमाने के लिए जिससे शरीर पर लगे घाव जल्दी भर सके, शरीर की शक्ति, कार्यक्षमता बढ़ाने के लिए तथा शरीर के अंदरूनी अंगों और तंत्रिका तंत्र को सुचारू रूप से चलाने के लिए आवश्यक होता है.

    कैल्शियम के और भी कार्य होते हैं जैसे कि मांसपेशियों के दबाव, कैंसर जैसी बीमारियों के विरुद्ध सहायक और शरीर के अंदर मौजूद एंजाइम (एक तरह का प्रोटीन) की गतिविधियों के लिए आवश्यक होता है.

    मांसपेशियों को स्थानांतरित करने के लिए और दिमाग से शरीर के विभिन्न अंगों तक संदेश पहुंचाने के लिए शरीर को कैल्शियम की आवश्यकता पड़ती है.

    हम जो आहार ग्रहण करते हैं उसका 99% कैल्शियम शरीर की हड्डियों और दातों के लिए एकत्रित हो जाता है तथा बाकी 1% शरीर के खून और मांसपेशियों मे होता है.

    कैल्शियम की कमी का कारण | Cause of calcium deficiency in hindi

    जब शरीर बीमार होने लगता है, तो शरीर में किसी तरह के विटामिंस या पोषक तत्व की कमी होने लगती है. तो आइए जानते हैं कैल्शियम की कमी होने के क्या कारण है?

    1. पर्याप्त भोजन ना करना

    आजकल की जिंदगी इतनी भागदौड़ वाली हो गई है कि हम अपने खानपान का भी ध्यान नहीं रख पाते हैं, सही रूप से संतुलित आहार नहीं लेते हैं.

    जिस वजह से शरीर को पर्याप्त मात्रा में खनिज तत्वों की प्राप्ति नहीं होती है जो कैल्शियम की कमी के कारण हो सकता है.

    2. अपर्याप्त मात्रा में कैल्शियम का सेवन


    हम जो आहार ग्रहण करते हैं यदि उसमें कैल्शियम युक्त पदार्थों का सेवन ना करें तो शरीर में कैल्शियम की कमी होने लगती है.

    3. पोषक तत्व की कमी


    रिसर्च के अनुसार विटामिन डी, मैग्नीशियम, फास्फोरस जैसे पोषक तत्व कैल्शियम के अवशोषण को बढ़ाते हैं अर्थात शरीर में इन पोषक तत्वों की कमी, कैल्शियम की कमी का कारण बन सकता है.

    4. प्रोटीन की कमी


    कैल्शियम की कमी होने का प्रमुख कारण पर्याप्त मात्रा में शरीर को प्रोटीन ना मिल पाना.

    5. अनुवांशिक कारण होना


    बहुत से लोगों में कैल्शियम की कमी के कारण अनुवांशिक भी हो सकता है जैसे कि परिवार में कोई पहले से इस बीमारी से पीड़ित होता आ रहा हो.

    6. रजोनिवृत्ति


    जो महिलाएं अधिक स्पोर्ट्स खेलती हैं वे कम एस्ट्रोजन के स्तर के कारण रजोनिवृत्ति में कैल्शियम की कमी का सामना करती हैं.

    7. अनाज


    संशोधित अनाज का सेवन करने से कैल्शियम की कमी हो सकती है क्योंकि अनाज को संशोधित करने पर सारे पोषक तत्व खत्म हो जाते हैं.

    8. अन्य कारण


    बहुत दिनों तक सूरज की रोशनी न लेने से, विटामिन C की कमी से, अधिक मात्रा में सोडियम युक्त पदार्थ ग्रहण करने से, शराब का अधिक सेवन.

    कैल्शियम की कमी के लक्षण | Symptoms of calcium deficiency in hindi

    जब शरीर में कैल्शियम की कमी होने लगती है तो कैल्शियम की कमी के संकेत या लक्षण महसूस होने लगते हैं. कैल्शियम की कमी को ह्य्पोकेसेमिया भी कहा जाता हैं.

    महिलाओं में अधिकतर कैल्शियम की कमी देखी जाती है लेकिन आज के समय में गलत खानपान और जीवनशैली की वजह से किसी भी उम्र के लोगों में कैल्शियम की कमी देखी जा सकती हैं.

    और इससे होने वाली बीमारियां जैसे कि हड्डियां, दांत कमजोर होना, जोड़ों में दर्द, ओस्टियोपोरोसिस की बीमारी आदि. इसलिए हमें कैल्शियम की कमी से होने वाले लक्षणों के बारे में अवश्य जानना चाहिए जिससे हम सचेत रहें.

    1. घबराहट होना


    जब शरीर में कैल्शियम की कमी होने लगती है तो दिल की धड़कन असामान्य हो जाती है जिस कारण हमें घबराहट, बेचैनी महसूस होने लगती है.

    2. मांसपेशियों में ऐंठन और कमजोरी


    कैल्शियम की कमी से शरीर की मांसपेशियों में ऐंठन की समस्या होने लगती है क्योंकि मांसपेशियों की मजबूती के लिए भी कैल्शियम की आवश्यकता होती है.

    जब यह आवश्यकता कम होने लगती है तो मांसपेशियों में ऐंठन कमजोरी महसूस होने लगती है जिससे पूरे शरीर में दर्द शुरू हो जाता हैं.

    3. जोड़ों में दर्द


    हड्डियों के जोड़ों में कैल्शियम की सबसे अधिक मात्रा होती है लेकिन जब यह खनिज तत्व हड्डियों के अंदर कम होने लगता है तो शरीर के हर एक जोड़ों में दर्द उत्पन्न हो जाता है जिससे हमें उठने, बैठने और काम करने में समस्या का सामना करना पड़ता है.

    4. उंगलियों में झुनझुनी


    कैल्शियम की कमी से उंगलियों में झुनझुनी होने लगती है यह एक आम लक्षण होता है.

    कैल्शियम की कमी के रोग, कारण, लक्षण और उपाय | calcium deficiency and symptoms in hindi
    कैल्शियम की कमी के लक्षण | Calcium deficiency symptoms

    5. पैरों में झुनझुनी


    जब शरीर में कैल्शियम खनिज तत्व की कमी होने लगती है तो पैरों में भी झुनझुनापन और सुन्नता महसूस होने लगती है इसके अलावा होंठ, जीभ, मुँह के आसपास भी सुन्नता महसूस होती है.

    6. जल्दी थकावट महसूस करना


    जब हम किसी काम को करते हैं या घर में ही सीढ़ियां चढ़ने, उतरने में हाँफने लगते हैं तो बहुत जल्द थकान महसूस करने लगते हैं यह भी कैल्शियम की कमी का एक संकेत हो सकता है.

    7. भूख न लगना


    कैल्शियम की कमी से हमें पर्याप्त मात्रा में भूख नहीं लगती है ऐसा होने पर एक बार चेकअप जरूर करवाएं.

    8. बालों का टूटना


    दांत, नाखून कमजोर, नाखून टूटने की समस्या, बालों का टूटना झड़ना भी कैल्शियम की कमी के लक्षण है.

    9. अन्य लक्षण


    ▪ निगलने में कठिनाई होना
    ▪ खराश या फिर जुखाम होना
    ▪ याददाश्त कमजोर होना
    ▪ मिर्गी के दौरे
    ▪ त्वचा का सूखापन और नींद ना आना

    कैल्शियम की कमी से होने वाले रोग | Calcium deficiency diseases in hindi

    जब शरीर में किसी पोषक तत्व की कमी होती है तो रोग भी उसी पोषक तत्व की कमी से जुड़ा होता है. जब शरीर में कैल्शियम खनिज तत्व की कमी हो जाती है तो कई तरह के रोग होने लगते हैं जैसे कि

      ▪ हृदय रोग (heart disease) - हृदय की गति नियमित करने के लिए, कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने एवं नियंत्रण और हृदय की देखभाल के लिए कैल्शियम खनिज तत्व की आवश्यकता होती है, इसलिए इसकी कमी से हृदय से जुड़ी हुई बीमारियों का जोखिम भी बढ़ जाता है.

      ▪ कैंसर (Cancer) - कैल्शियम की कमी से प्रोस्टेट और कोलोन कैंसर (एडिनोमा ट्यूमर) का खतरा बढ़ सकता है.

      ▪ हाई ब्लड प्रेशर (High blood pressure) - कई अध्ययनों के अनुसार कैल्शियम की कमी से हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत भी हो सकती है.

      ▪ ओस्टियोपोरोसिस (Osteoporosis) - जब शरीर में कैल्शियम मिनरल्स की कमी होने लगती है तो हड्डियां इतनी कमजोर होने लगती हैं कि उनके टूटने का डर बढ़ जाता है.यह बीमारी पुरुष और महिला दोनों में एक समान रूप से देखी जा सकती है. वृद्धों में इस बीमारी का होना आम बात है.

    कैल्शियम की कमी के रोग, कारण, लक्षण और उपाय | calcium deficiency and symptoms in hindi
    कैल्शियम की कमी से होने वाले रोग | Calcium deficiency diseases

      ▪ दांतों की समस्या (Dental problems) - कैल्शियम की कमी से दांतों की संरचना बिगड़ जाती है, दांत समय से पहले गिरने लगते हैं और दातों में कमजोरी तथा दर्द भी होने लगता है. क्योंकि कैल्शियम की कमजोरी की कमी सीधा हमारे दांतों पर असर डालती है.

     ▪ हड्डियां कमजोर पड़ना (Weakness of bones) - कैल्शियम का संबंध हड्डियों की मजबूती से होता है लेकिन जब शरीर में कैल्शियम की कमी होने लगती है तो हड्डियों की क्षमता और सहन शक्ति कमजोर पड़ने लगती है.

    कैल्शियम की कमी के उपाय | Calcium deficiency remedies in hindi

    हम जान चुके हैं कि कैल्शियम की कमी से किस तरह के रोग होते हैं, इन रोगों से बचने के लिए किस तरह के उपाय करने चाहिए. तो आइए जानते हैं कैल्शियम की कमी कैसे पूरी करें?

      ▪ कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ: आहार में ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जिनके अंदर कैल्शियम की मात्रा अधिक हो जैसे कि दूध, हरी सब्जियां, दही, ब्रोकोली इत्यादि.

      ▪ पर्याप्त नींद लेना: पर्याप्त मात्रा में नींद ना लेने से शरीर में कैल्शियम की कमी होने लगती है इसलिए कम से कम 6-7 घंटे जरूर सोए जिससे शरीर में कैल्शियम की कमी ना हो.

      ▪ डेयरी उत्पाद: डेयरी उत्पाद में दही, दूध, पनीर का सेवन कर सकते हैं क्योंकि इनके अंदर कैल्शियम, प्रोटीन, विटामिन बी, विटामिन ए, पोटेशियम फॉस्फोरस अच्छी मात्रा में पाया जाता है जो कि कैल्शियम की कमी को पूरा करने में सहायक होते हैं.

      ▪ मछली: कैल्शियम का बहुत ही अच्छा स्रोत होता है खासकर की सार्डिन और सालमन मछली के अंदर अच्छी मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है इनके अंदर प्रोटीन, ओमेगा 3 फैटी एसिड जैसे पोषक तत्व होते हैं जो कई बीमारियों के जोखिम को भी कम करते हैं.

      ▪ ड्राई फ्रूट्स: कैल्शियम की कमी को पूरा करने के लिए आहार में सूखे मेवा जैसे कि बादाम, अंजीर, अखरोट शामिल कर सकते हैं क्योंकि इसके अंदर मैग्नीशियम, पोटेशियम, कैल्शियम भरपूर मात्रा में होता है.

      ▪ घरेलू खाद्य पदार्थ: हम कुछ घरेलू चीजों का सेवन करके भी कैल्शियम की कमी को दूर कर सकते हैं जैसे कि जीरा, अदरक, अश्वगंधा, तिल, आंवला इत्यादि.

    निष्कर्ष | The conclusion

    इस पूरे लेख को पढ़कर यही जानकारी मिलती है कि कैल्शियम दातों एवं हड्डियों की मजबूती के लिए तथा शरीर की अन्य क्रियाओं को करने के लिए कितना जरूरी होता है.

    हमने जाना कि कैल्शियम की कमी के कारण, लक्षण एवं कैल्शियम की कमी से होने वाले रोग तथा कैल्शियम की कमी कैसे पूरी की जाए?

    कैल्शियम की पूर्ति से हड्डियों और दातों की बीमारियों का जोखिम तो कम होता ही है इसके अलावा कई और गंभीर बीमारियों से भी सुरक्षित रहते हैं.

    खासकर जब महिलाएं गर्भवती होती है तो उन्हें कैल्शियम की मात्रा का विशेष ध्यान रखना चाहिए.

    कैल्शियम संबंधित सवाल | FAQ

    Q. कैल्शियम की कमी के क्या लक्षण है?

    A. शरीर में कैल्शियम की कमी होने से कई तरह के लक्षण दिखने लगते हैं जैसे कि भूख न लगना, हाथ पैरों में झुनझुनी होना, बालों का टूटना, हाथ- पैरों के जोड़ों में दर्द, हड्डियां कमजोर होना और जल्दी थकावट महसूस करना इत्यादि.

    Q. कैल्शियम की कमी से कौन से रोग होते हैं?

    A. कैल्शियम की कमी होने पर कई तरह के रोग हो सकते हैं जैसे कि कैंसर, हाई ब्लड प्रेशर, ओस्टियोपोरोसिस और दांतों की समस्या इत्यादि.

    Q. कैल्शियम की कमी कैसे दूर करें?

    A. कैल्शियम की कमी दूर करने के लिए कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ का सेवन करना चाहिए जैसे कि दूध, दही, हरी सब्जियां, ब्रोकोली ,पनीर, प्रोटीन, मछली और ड्राई फ्रूट्स इत्यादि.

    Q. शरीर में कैल्शियम की कमी होने पर क्या होता है?

    A. शरीर में कैल्शियम की कमी होने से हड्डियां और दांत कमजोर पड़ने लगते हैं तथा कई तरह की बीमारियों का जोखिम भी बढ़ जाता है.

    यह भी जाने...

    Share Post

    0 Comments: