भूख ना लगने के क्या कारण होते हैं और भूख बढ़ाने के उपाय? | Increase appetite in hindi

भूख ना लगने के क्या कारण होते हैं और भूख बढ़ाने के उपाय?

अगर हमें एक स्वस्थ जीवन जीना है तो सबसे पहले हमें अपने खानपान या अपनी दिनचर्या पर ध्यान देना पड़ेगा, क्योंकि स्वास्थ्य ही धन होता है. यदि हम स्वस्थ हैं तो हम खुश भी हैं और हम दूसरों को भी खुश रख सकते हैं.

हम इस लेख में जानेंगे कि भूख कम या भूख ना लगने के क्या कारण होते हैं और हम किन घरेलू उपायों की मदद से अपनी भूख को बढ़ा सकते हैं, तो आइए पढ़ते हैं और कुछ सीखते हैं.

आज कल की भागदौड़ की जिंदगी में समय की कमी के अभाव से हम अपनी लाइफ स्टाइल पर ध्यान नहीं दे पाते हैं, जिससे शरीर के अंदर धीरे-धीरे बीमारियां पनपने लगती हैं जैसे कि भूख न लगना भी एक तरह की बीमारी होती है.

भूख ना लगने के कई कारण हो सकते हैं आइए चर्चा करते हैं.


    भूख कम लगना या भूख ना लगने के कारण | Due to loss of appetite

    जब हम एक व्यस्त जीवन जीने लगते हैं तो हम धीरे-धीरे मानसिक तनाव, नींद ना आना, चिड़चिड़ापन तथा भूख न लगना जैसी कई छोटी-छोटी बीमारियों से गुजरने लगते हैं.

    इनसे हमारी हेल्थ पर नकारात्मक प्रभाव पढ़ने लगते हैं जिससे हम धीरे-धीरे ऐसी जटिल बीमारियों में जकड़ जाते हैं जिनसे उभरने में हमें बहुत समय लग जाता है.

    1. मानसिक तनाव का होना

    जब हम किसी मानसिक तनाव के दौरान गुजर रहे होते हैं तो हमें सबसे पहले शरीर का टूटना और भूख ना लगना जैसी बीमारियां महसूस होने लगती है.

    मानसिक तनाव के दौरान हम अपने आप को खुश महसूस नहीं करते हैं जिससे कि ना तो हमें भूख लगती है और ना ही किसी काम में मन.

    इसलिए अपने आप को खुश रखें और जहां तक हो सके किसी प्रकार के तनाव को अपने ऊपर भारी ना होने दें.

    2. पाचन क्रिया का मजबूत ना होना

    जब हमारे शरीर की पाचन क्रिया मजबूत नहीं होगी तो हमें बहुत कम भूख लगेगी क्योंकि जो हम खाना खाते हैं यदि वह सही समय पर नहीं पचता है तो हमें गैस, पेट दर्द, अपच, कब्ज, पेट में मरोड़, जैसी शिकायत बनी रहती हैं.

    तब हमें भूख भी नहीं लगेगी और ना ही खाना खाने का मन करेगा, क्योंकि जितनी भी बीमारियां होती है वह हमारे पेट से ही शुरू होती है.

    भूख ना लगने के क्या कारण होते हैं और भूख बढ़ाने के उपाय?
    भूख ना लगने के कारण

    3. हार्मोन्स का असंतुलित होना

    हमारे पूरे शरीर के अंदर हार्मोन एक केमिकल घटक के रूप में होते हैं जो हमारे शरीर में मुख्य प्रक्रियाओं को कंट्रोल करने में मदद करते हैं.

    जब हमारे शरीर में हारमोंस असंतुलित हो जाते हैं इसका मतलब या तो हारमोंस बहुत कम हो जाना या फिर उनका बढ़ जाना. 

    इससे हमारे शरीर पर कई विपरीत प्रभाव पड़ते हैं जिसमें भूख ना लगना भी एक कारण शामिल है.

    4. संक्रमण 

    संक्रमण कई प्रकार के होते हैं जो हमारे शरीर के स्वास्थ्य को कई तरह से प्रभावित कर सकते हैं इन्हीं संक्रमण की वजह से हमें भूख ना लगने की शिकायत हो सकती है.

    जैसे कि निमोनिया, हेपेटाइटिस, लीवर या आंतों में सूजन का होना, किडनी तथा पाचन तंत्र की समस्या आदि.

    5. दवाइयां 

    जब हम ज्यादा मात्रा में दवाइयों का सेवन करते हैं तो हमें भूख ना लगने की स्थिति पैदा हो सकती है. क्योंकि इन दवाइयों का साइड इफेक्ट हमारे शरीर पर कहीं ना कहीं दिखाई देता है.

    भूख ना लगने के लक्षण | Symptoms of loss of appetite in hindi

    जब हम अपने खानपान पर अपनी लाइफ स्टाइल पर ध्यान नहीं दे पाते हैं तो धीरे-धीरे हमें भूख ना लगने की शिकायत होने लगती है.

    डॉक्टरी भाषा में भूख न लगने को एनोरेक्सिया कहते हैं.

    भूख ना लगने पर शरीर हमें कई तरह की संकेत देता है जैसे कि

    ∎ खाने के प्रति इच्छा ना होना.

    ∎ थोड़ा सा खाना खाकर ऐसा महसूस होना कि पेट जल्दी भर गया.

    ∎ खाना खाते समय थकान, बोझपन, चिड़चिड़ापन जैसा महसूस करना.

    ∎ जो चीज हमें पसंद होती है उसके प्रति भी मन ऊब जाना खाना.

    ∎ चबाने में परेशानी का सामना करना.

    ∎ भूख लगना पर पेट भरा भरा सा महसूस होना.

    भूख ना लगने के क्या कारण होते हैं और भूख बढ़ाने के उपाय?

    भूख बढ़ाने के घरेलू उपाय | Home remedies to increase appetite

    प्राचीन समय से ही हम घरेलू नुस्खों का उपयोग करते आ रहे हैं जब पुराने जमाने में दवाइयों का उपयोग नहीं होता था तो हम इन्हीं घरेलू तरीकों का उपयोग करके अपनी बीमारियों को सही करते थे.

    तो आइए जानते हैं भूख बढ़ाने के असरदार आयुर्वेदिक घरेलू उपायों के बारे में.

    1. काला नमक - काला नमक चाटने से गैस पास होती है, भूख बढ़ती है तथा काला नमक पेट को साफ भी करता है.

    2. हरड़1. हरड़ का चूर्ण, सोंठ और गुड़ के साथ अथवा सेंधा नमक के साथ सेवन करने से भूख ना लगने की समस्या ठीक होती है.

    2. हरड़ को नीम की निंबोलीओं के साथ लेने से भूख बढ़ती है और शरीर के चर्म रोग भी खत्म होते हैं.

    3. हरण, गुड और सोंठ का चूर्ण बनाकर उसे थोड़ा सा मट्ठे के साथ रोजाना लेने से भूख खुल जाती है.

    3. छाछ - छाछ के रोजाना लेने से भूख ना लगने की समस्या या मंदाग्नि (बदहजमी) खत्म हो जाती है.

    4. सोंठ - सोंठ का चूर्ण घी में मिलाकर चाटने से और गर्म जल खूब पीने से भूख खूब लगती है.

    5. अजवाइन1. अजवाइन, सेंधा नमक, हींग, और त्रिफला का बराबर-बराबर भाग लेकर इसे पीसकर चूर्ण बना लें इसमें स्वादानुसार गुड़ मिलाकर छोटी-छोटी गोलियां बना कर ताजे पानी से सुबह-शाम ले.

    इससे आपकी भूख भी बढ़ेगी और पाचन क्रिया भी मजबूत होगी.

    2. अजवायन 40 ग्राम, सेंधा नमक 10 ग्राम दोनों को कूट पीसकर एक डिब्बे में रख ले. इसमें से 2 ग्राम चूर्ण रोजाना सवेरे फांक कर ऊपर से पानी पी ले इससे आपकी भूख भी बढ़ेगी और पेट की कई बीमारियां भी खत्म होंगी.

    6. जीराजीरा, सोंठ, अजवाइन, छोटी पीपल और काली मिर्च बराबर-बराबर भाग में लें उसमें थोड़ी सी हींग मिलाएं फिर इन सब को खूब बारीक पीसकर चूर्ण बना लें.

    इस चूर्ण को एक चम्मच छाछ में मिलाकर रोजाना 1 सप्ताह तक लेने से गैस पास होने में, कब्ज की शिकायत और भूख ना लगना इन सब में फायदा होता है.

    7. सब्जियां - भोजन के आधे घंटे पहले चुकंदर, गाजर, टमाटर, पत्ता गोभी, आंवला, पालक तथा अन्य हरी सब्जियों व फलों का मिश्रण जूस पीने से भूख बढ़ती है.

    8. सेब - सेब का सेवन करने से भूख बढ़ती है, खून भी साफ होता है और हम कई बीमारियों से दूर भी रहते हैं.

    9. लीची - लीची को भोजन से पहले लेने से पाचन शक्ति और भूख में बढ़ोतरी होती है.

    10. अनार - अनार का सेवन या अनार का जूस पीने से भूख बढ़ती है और शरीर में हीमोग्लोबिन यह खून की कमी पूरी होती है. 

    11. नींबू - नींबू का रस रोजाना पानी में मिलाकर पीने से भूख बढ़ती है. क्योंकि नींबू के अंदर पर्याप्त मात्रा में विटामिन C, डाइटरी फाइबर तत्व पाए जाते हैं जो पाचन क्रिया को दुरुस्त करके भूख बढ़ाने में मदद करते हैं.

    12. अनानास - अनानास फल का आधा गिलास रस भोजन से पहले लेने से भूख बढ़ती है.

    13. इमली - 1. इमली की पत्ती की चटनी बनाकर खाने से भूख और खाने को पचाने में मदद मिलती है.

    2. पकी हुई मीठी इमली के पत्ते, सेंधा नमक या काला नमक, काली मिर्च, और हींग का काढ़ा बनाकर पीने से बदहजमी ठीक होती है और भूख बढ़ती है.

    14. जायफल - जायफल का 1 ग्राम चूर्ण शहद के साथ चाटने से जठराग्नि मजबूत होकर बदहजमी दूर होती है. जब हमारी पाचन क्रिया अच्छी होगी तो भूख भी अपने आप बढ़ेगी.

    15. छुहारा – 2 छुहारा का गूदा निकालकर 300 ग्राम दूध में पका लें फिर इस दूध को छान लें इसे नियमित रूप से पीने से भोजन भी पचता है और भूख भी बढ़ती है.

    16. सूखा पुदीना - सूखा पुदीना, बड़ी इलायची, सोंठ, सौंफ, गुलाब के फूल, धनिया, सफेद जीरा, अनारदाना, आलूबुखारा और हरड़ समान मात्रा में लेकर चूर्ण बना कर मंदाग्नि (बदहजमी) अवश्य दूर हो जाती है.

    17. काली मिर्च - काली मिर्च के अंदर कई ऐसे पोषक तत्व होते हैं जो भूख बढ़ाने में मदद करते है. आप काली मिर्च की चाय भी पी सकते हैं या दो- तीन काली मिर्च सीधे पानी के साथ ले सकते हैं.

    निष्कर्ष | The conclusion in hindi

    हमने इस लेख में जाना कि भूख ना लगने के क्या कारण होते हैं और कैसे हम घरेलू उपायों की मदद से भूख को बढ़ा सकते हैं?

    भूख ना लगने की बीमारी किसी भी उम्र की अवस्था में हो सकती है चाहे वह बच्चे हो, बूढ़े, अथवा जवान.

    भूख ना लगने से हम पर्याप्त मात्रा में भोजन ग्रहण नहीं कर पाते हैं जिससे हमारा शरीर दुबला होने लगता है और हम थकान, कमजोरी, अनिद्रा जैसी कई बीमारियों के शिकार होने लगते हैं.

    " स्वास्थ्य ही धन है "

    धन्यवाद.

    Share Post

    0 Comments: