May 31, 2021

लीची खाने के फायदे और नुकसान | litchi benefits and side effects in hindi

लीची खाने के फायदे और नुकसान | litchi benefits and side effects in hindi
लीची एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन सी, विटामिन ई और ऊर्जा तथा कई पोषक तत्वों का अच्छा स्रोत है.

गर्मियों का मौसम शुरू होते ही बाजार में बहुत से ऐसे फल आने लगते हैं जो सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं जैसे कि लीची. लीची गर्मियों में आने वाला फल है जो कि स्वाद में स्वादिष्ट, मीठा और रसीला तो होता ही है लेकिन कई सेहतमंद गुणों से भरपूर होता है.

लीची नौ प्रकार की होती हैं जिसकी ORAC वैल्यू की रेंज 430.49 से 1752.30 μmol TE/100 g होती है. लीची की एवरेज ORAC वैल्यू 820.07 μmol होती है. ORAC (oxygen radical absorbance capacity) का मतलब ऑक्सीजन रेडिकल अवशोषण क्षमता है. यह किसी भी खाद्य पदार्थ की कुल एंटीऑक्सीडेंट क्षमता को मापने का पैमाना है. लीची की ORAC वैल्यू अधिक होने से इसके अंदर एंटीऑक्सीडेंट की अच्छी मात्रा पाई जाती है.

किसी भी फल या खाद्य पदार्थ का सेवन करने से पहले उसके फायदे और नुकसान जरूर जानना चाहिए. तो आइए जानते हैं लीची की तासीर और लीची खाने के फायदे और नुकसान.

लीची के अंदर विटामिन-C, विटामिन-B6, तांबा, पोटेशियम, मैग्नीशियम, डाइटरी फाइबर, प्रोटीन, राइबोफ्लेविन, फास्फोरस और आयरन जैसे तत्वों का अच्छा यौगिक और मिश्रण होता है जो शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और अनेक क्रियाओं को करने के लिए जरूरी होते हैं.


    लीची से जुड़ी हुई जानकारी | Information related to Lychee in hindi 

    • वैज्ञानिक नाम - लीची चीनेंसिस हैं. 
    • लीची सोपबैरी परिवार सदस्य की है. 
    • लीची आकार में लगभग 2 इंच की ऊपर से गुलाबी और अंदर से सफेद रंग की होती है. 
    • लीची की तासीर गर्म प्रकृति की होती है.
    • सबसे पहले लीची की पैदावार लगभग 4000 साल पहले चीन में हुई थी. 
    • लीची की पैदावार दक्षिण पूर्व एशिया, चीन, भारत, इंडोनेशिया, वियतनाम, थाईलैंड, दक्षिण अफ्रीका और भी कई देशों में होती है.
    • भारत में लीची का उत्पादन सबसे अधिक मात्रा में बिहार में होता है. 
    • लीची का उत्पादन पश्चिम बंगाल, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, त्रिपुरा, असम और झारखंड में भी लीची की पैदावार होती है.

    अन्य भाषाओं में लीची के नाम – Lychee (Litchee) name in other languages

    भाषा (Language) अर्थ (meaning)
    हिंदी (Hindi) लीची (Lychee)
    उर्दू (Urdu) लिचुर (Lichur)
    अंग्रेजी (English) लीट्ची (Litchee), लीची (litchi)
    ओरिया (Oriya) लीसी (Lishi)
    संस्कृत ( Sanskrit) लीची (Lychee)
    गुजराती ( Gujarati) लीची (Lychee)
    नेपाली (Nepali) लिची (Lychee)
    मराठी (Marathi) लीची (Lychee)

    लीची के सेहतमंद फायदे | Healthy benefits of litchi in hindi 

    जब भी आप मौसम के हिसाब से फल खाएंगे तो इससे शरीर को जरूरी विटामिंस और खनिज तत्वों की प्राप्ति होती रहती है जो शरीर को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी होते हैं. आइए जानते हैं लीची खाने से क्या होता है?

    1. पाचन शक्ति के लिए | For digestive power 


    आजकल की भागदौड़ की जिंदगी में समय की कमी के अभाव से बहुत से लोग अपने स्वास्थ्य पर ध्यान नहीं दे पाते हैं, जिसके कारण धीरे-धीरे पाचन संबंधी समस्याएं होने लगती हैं.

    हमारा पाचन तंत्र बिगड़ने लगता है, ऐसे में यदि आप गर्मियों के मौसम में लीची का सेवन करते हैं तो यह पाचन तंत्र को स्वस्थ करती है.

    क्योंकि लीची के अंदर अच्छी मात्रा में फाइबर पाया जाता है जो हमारे पाचन तंत्र के लिए और मल को शरीर से बाहर निकालने में उत्तेजित करता है. लीची के सेवन से धीरे-धीरे हमें कब्ज से भी राहत मिलती है.

    100 ग्राम लीची के अंदर 1.3 g फाइबर की मात्रा पाई जाती है.

    2. बढ़ाएं प्रतिरोधक क्षमता | Increase immunity


    जब मौसम परिवर्तन होता है तो इससे स्वास्थ्य पर भी प्रभाव पड़ता है जिससे छोटी-छोटी बीमारियां जैसे फ्लू, खांसी, जुखाम और बुखार होने लगता हैं. इन्हीं सभी प्रभावों से बचने के लिए शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होना बेहद जरूरी है.

    लीची के अंदर भरपूर मात्रा में विटामिन C पाया जाता है जो एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट के रूप में शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकाल कर इम्यूनिटी भी मजबूत करता है.

    100 ग्राम लीची के अंदर 71.5mg विटामिन C की मात्रा पाई जाती है.


    3. कैंसर | Cancer


    कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों से बचने के लिए लीची को अपने आहार में शामिल कर सकते हैं, क्योंकि लीची के अंदर बीटा कैरोटीनपॉलिफिनॉलिक और एंटीऑक्सीडेंट तत्व होते हैं जो कैंसर से उत्पन्न हुई कोशिकाओं को कम करने के लिए जरूरी होते हैं.

    लीची का सेवन खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को नियंत्रित करता है जिससे हार्ट संबंधी बीमारियों से बचा जा सकता है.


    4. त्वचा के लिए |To skin


    खूबसूरत और दमकती त्वचा के लिए लीची खाने के फायदे या लीची का जूस बेहद गुणकारी है. लीची के अंदर पॉलीफेनॉल, एंटीऑक्सीडेंट, बीटा कैरोटीन विटामिन C और E पाया जाता है जो त्वचा की देखभाल के लिए जरूरी तत्व होते हैं.

    अगर धूप में ज्यादा देर रहने से हमारे शरीर पर फफोले या हमारी स्किन थोड़ी सी लाल हो गई है, या जलन हो रही हो तो हम लीची के जूस का भी उपयोग कर सकते हैं ऐसे स्थानों पर लीची लगाने से सूजन कम होती है और दाग धब्बे के निशान भी दूर होते हैं.

    100 gm लीची के अंदर 7.15 mg विटामिन C और 0.07 mg विटामिन E पाया जाता है.


    5. बालों की चमक के लिए | For hair shine


    बाहरी प्रदूषण से बालों पर काफी प्रभाव पड़ता है जिससे बाल रूखे और बेजान हो जाते हैं. बालों की देखभाल के लिए उनकी चमक बरकरार रखने के लिए हम लीची का उपयोग कर सकते हैं.

    लीची के गूदे को अपने बालों में लगाने से हमारे बालों की चमक वापस आ जाती है. लीची कॉपर और विटामिन ई का अच्छा स्रोत होता है जो बालों की देखभाल, मजबूती और बालों के विकास को बढ़ावा देते हैं.

    100 gm लीची के अंदर 0.148 mg कॉपर और 0.07 mg विटामिन E पाया जाता है.

    6. ह्रदय | For heart


    कई शोधों से यह पता चला है कि लीची के अंदर एंटीऑक्सीडेंट और बीटा-कैरोटीन तत्व होते हैं जो हृदय को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी तत्व होते हैं. लीची के अंदर औलिगोनोल नामक एक योगिक होता है जो नाइट्रिक ऑक्साइड के उत्पादन को बढ़ाता है.

    लीची के अंदर ऐसे कई तत्व पाए जाते हैं जो खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को नियंत्रण करके कोशिकाओं मे सही रूप से रूधिर संचार करने के लिए उत्तरदाई होते हैं.

    शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा नियंत्रण रहने से हमें हार्ट संबंधित बीमारियां का जोखिम भी कम होता है.


    7. आंखों के लिए | For eyes


    लीची के सेवन से आंखों की कई बीमारियों में फायदा होता है जैसे कि धुंधलापन और  मोतियाबिंद. मोतियाबिंद आंखों में होने वाली आम बीमारी है इससे कई लोग प्रभावित होते हैं.

    कई अध्ययनों के अनुसार लीची में पाए जाने वाला फाइटोकेमिकल तत्व मोतियाबिंद जैसी बीमारी को रोकने के लिए फायदेमंद होता है और आंखों की रोशनी भी बरकरार रहती है.


    लीची खाने के फायदे और नुकसान | litchi benefits and side effects in hindi
    लीची खाने के 13 स्वास्थ्यवर्धक फायदे

    8. लीची खाने के फायदे गर्भावस्था में | benefits of eating litchi in pregnancy 

    गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को अपने खान-पान का विशेष तौर से ध्यान रखना पड़ता है क्योंकि इसका अच्छा या बुरा असर गर्भवती महिला तथा बच्चे दोनों पर पड़ता है.

    कई विशेषज्ञ और अध्ययनों के अनुसार गर्भवती महिलाओं को लीची का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि लीची एक ट्रॉपिकल फल है एवं इसकी तासीर गरम प्रकृति की होती है.

    जो गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है जैसे कि शरीर का तापमान बढ़ना, नकसीर, डायबिटीज, एलर्जी की समस्या आदि. यदि गर्भवती महिलाओं का मन लीची खाने का करता है तो लीची खाने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर करें.

    9. वजन कम करने में | To lose weight


    गलत जीवनशैली जीने की वजह से धीरे-धीरे कई बीमारियां होने लगती है जैसे कि वजन का बढ़ना या मोटापा.
    सही आहार न लेने की वजह से और ज्यादा ऑइली चीजें खाने से शरीर पर अतिरिक्त चर्बी बढ़ने लगती है जिससे  आप मोटापा का शिकार हो सकते हैं.

    मोटापा कम करने या वजन कम करने के लिए भी लीची का सेवन फायदेमंद होता है. क्योंकि लीची के अंदर कैलोरी की मात्रा कम पाई जाती है और अधिक मात्रा में फाइबर होता है जो वजन को कम करने के लिए जरूरी तत्व होता है.

    100 ग्राम लीची के अंदर केवल 66 कैलोरी ही पाई जाती है.


    10. ऊर्जावान रहने के लिए | To be energetic


    यदि आप सुबह अपनी डाइट में लीची खाते हैं तो यह आपके शरीर को जरूरी तत्व जैसे कि विटामिन C, एंटीऑक्सीडेंट, कैल्शियम, आयरन बहुत से ऐसे तत्वों की पूर्ति करता है जो दिन भर ऊर्जावान बनाए रहते हैं.

    जो लोग बहुत ही जल्द थकान या कमजोरी महसूस करने लगते हैं उनके लिए लीची (लीची खाने के फायदे और नुकसान) का सेवन बहुत फायदेमंद है क्योंकि इसके अंदर मौजूद नियासिन तत्व शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है.

    100 ग्राम लीची के अंदर 66 kcal  ऊर्जा होती हैं.


    11. डायबिटीज में फायदेमंद | Beneficial in diabetes


    बिगड़ती हुई जीवनशैली, दिन प्रतिदिन बढ़ता हुआ काम का प्रेशर, तनाव, नींद की कमी, इन सब वजह से  डायबिटीज की शिकायत होने लगती है. ऐसे में लीची के सेवन से डायबिटीज या मधुमेह बीमारी को नियंत्रण करने में मदद मिलती है.

    कई अध्ययनों के अनुसार लीची के अंदर एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटी डायबिटिक गुण होते हैं जो शरीर में इंसुलिन की मात्रा को बढ़ाकर डायबिटीज की बीमारी के जोखिम को कम कर सकते हैं.

    12. मुंह के छालों के लिए | For mouth ulcers


    बिगड़ती जीवन शैली और पेट की गंदगी से अक्सर मुंह में छाले हो जाते हैं जिससे खाना खाने, पानी पीने और बोलने में काफी परेशानी होती है, 

    लीची का सेवन या लीची के पेड़ की छाल मुंह के छालों के लिए बहुत लाभकारी होती है. यदि हम लीची के पेड़ की छाल या जड़ का काढ़ा बनाकर कुल्ला करने से मुंह के रोगो में काफी आराम मिलता है.


    13. संक्रमण से बचने के लिए | To avoid infection


    बाहरी संक्रमण, मौसम परिवर्तन और छोटी-छोटी बीमारियों से बचने के लिए लीची का सेवन बहुत फायदेमंद होता है.

    क्योंकि लीची के अंदर अच्छी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन सी, एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटीबायोटिक तत्व पाए जाते हैं जिससे प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और आप किसी भी संक्रमण से जल्दी प्रभावित नहीं होते हैं.


    14. कीड़े काटने और सूजन पर | On insect bites and swelling


    बरसात के मौसम में कई बार बहुत से छोटे-छोटे कीड़े शरीर पर काट लेते हैं, जिससे फोड़े-फुंसी, जलन, सूजन, दर्द होने लगता है.

    इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए लीची के पत्तों को पीसकर कटी हुई जगह पर लगाएं तो दर्द और सूजन दोनों में राहत मिलती है.

    लीची के पोषक तत्वों की मात्रा – (Litchi Nutrient Value Per 100 g in hindi)

    According to the USDA National Nutrients Database

    पोषक तत्व (Nutrients) मात्रा (The quantity) प्रतिशत (Percentage of RDA)
    ऊर्जा (Energy) 66 Kcal 3.3 %
    कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrates) 16.53 g 12.7 %
    प्रोटीन (Protein) 0.83 g 1.5 %
    टोटल फैट (Total fat) 0.44 g 2 %
    कोलेस्ट्रॉल (cholesterol) 0 mg 0 %
    फाइबर (Dietary Fiber) 1.3 g 3.5 %
    विटामिन (Vitamin A) 0 mg 0 %
    विटामिन (Vitamin C) 71.5 mg 119 %
    विटामिन (Vitamin E) 0.07 mg 119 %
    विटामिन (Vitamin K) 0.4 µg 0.3 %
    फोलटेस (Folates) 14 µg 3.5 %
    सोडियम (Sodium) 1 mg 0 %
    पोटेशियम (Potassium) 171 mg 3.5 %
    कैल्शियम (Calcium) 5 mg 0.5 %
    कॉपर (Copper) 0.148 mg 16 %
    मैग्नीशियम (Magnesium) 10 mg 2.5 %
    थायमिन (Thiamin) 0.011 mg 1 %
    राइबोफ्लेविन (Riboflavin) 0.065 mg 5 %
    नियासिन (Niacin) 0.603 mg 3.5 %

    आइए जानते हैं लीची की तासीर, लीची खाने का सही समय और लीची के नुकसान.


    लीची की तासीर | Lychee taseer in hindi

    किसी भी खाद्य पदार्थ का सेवन करने से पहले उसकी तासीर के बारे में जान लेना जरूरी होता है तो आइए जानते हैं लीची की तासीर गर्म होती है या ठंडी.

    लीची की तासीर गर्म प्रकृति की होती है इसलिए गर्मियों के मौसम में इसका अधिक सेवन नुकसानदायक भी हो सकता है.

    लीची खाने का सही समय | right time to eat litchi in hindi

    हर फल खाने का एक सही समय होता है. किसी भी समय फल खाने से भूख तो मिट जाती है लेकिन शरीर को जरूरी पोषक तत्वों की प्राप्ति नहीं हो पाती है.

    स्वास्थ्य की देखभाल के लिए हमेशा मौसमी फलों का सेवन करना चाहिए. लीची खट्टा-मीठा फल है इसलिए इसका सेवन दोपहर के समय करना चाहिए.

    आमतौर पर बाजार में लीची जून और जुलाई के पहले हफ्ते तक उपलब्ध होती है तो इस समय लीची का सेवन करना प्राकृतिक तौर पर फायदेमंद होता है. बारिश से पहले लीची खाना बंद कर देना चाहिए क्योंकि बारिश के कारण लीची में कीड़े लग जाते हैं.

    लीची के नुकसान | Side effect of litchi

    आइए जानते हैं की लीची खाने के क्या नुकसान हो सकते हैं.

      1- लीची के अंदर शर्करा की मात्रा अधिक होने से जो डायबिटीज के मरीज होते हैं उनको लीची का सेवन कम   मात्रा में करना चाहिए.

      2- लीची का अधिक मात्रा में सेवन करने से यह आंतरिक रक्तस्त्राव, बुखार और अन्य बीमारियों का भी कारण बन सकती है.

      3- गर्भवती महिलाओं को स्तनपान कराने के समय अधिक मात्रा में लीची खाने से बचना चाहिए.

      4- लीची गर्म प्रकृति की होती है इसलिए इसका सेवन अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए.

      5- लीची का सेवन करने से कुछ लोगों में एलर्जी की प्रॉब्लम हो सकती है, इसलिए यदि आपको एलर्जी है तो इसका सेवन करने से पहले आपको सावधानी बरतनी चाहिए.

    परामर्श | Advice

    इस पूरे लेख को पढ़कर यही निष्कर्ष मिलता है कि लीची का सेवन जरूर करना चाहिए, क्योंकि इसके सेवन से हर वह पोषक तत्व की प्राप्ति होती है जो शरीर को सेहतमंद रखने के लिए जरूरी हैं.

    इस पोस्ट को पढ़कर यह जानकारी मिलती है कि लीची खाने के क्या फायदे और नुकसान होते हैं, लीची खाने का सही समय तथा लीची की तासीर कैसी होती है?

    हमें मौसम के हिसाब से आने वाले हर फल का सेवन करना चाहिए क्योंकि प्रकृति ने हर फल मौसम के हिसाब से ही बनाए हैं जिससे हर प्रकार के विटामिन और खनिज तत्व मिलते रहे.

    धन्यवाद..

    और भी पढ़ें
    Share Post

    0 Comments: