कोरोना वायरस के क्या लक्षण है और यह कैसे फैलता है? - symptoms of corona virus (covid-19) and how does it spread in hindi?

कोरोना वायरस के क्या लक्षण है और यह कैसे फैलता है?

आइए जानते हैं कोरोना वायरस (COVID-19) के क्या लक्षण होते हैं और यह किस तरह से फैलता है. पूरी दुनिया आज कोरोना वायरस(COVID-19) के वायरस से संक्रमित हो रही है. हर जगह अफरा-तफरी लोगों में डर अपनी और अपने परिवार वालों के जीवन की सुरक्षा की चिंता हो रही है.

क्योंकि यह बीमारी इतनी भयानक है कि इस वायरस से लोग इतनी जल्दी संक्रमित हो जाते हैं कि इसे रोक पाना भी बड़ा मुश्किल हो रहा है.

अभी तक कोरोना वायरस को ठीक करने वाली कोई भी वैक्सीन या टीका नहीं बन पाया है. इस वायरस से प्रभावित व्यक्ति को सही इलाज और दवाई ना मिलने की वजह से मृत्यु दर की संख्या बढ़ती जा रही है.

इस महामारी ने पूरी दुनिया के बड़े-बड़े देशों को जैसे अमेरिका, फ्रांस, इटली, जापान, जर्मनी, ईरान, भारत को अपनी चपेट में समा रखा है.

अभी भी यह देश इस महामारी से उबरने के लिए लगातार कोशिश कर रहे हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर चुका है.

    कोरोना वायरस से होने वाले लक्षण – (Symptoms caused by corona virus in hindi) 

    अभी तक कोरोना वायरस से संक्रमित जितने लोगों की मौत हो चुकी है उन लोगों का वैज्ञानिकों ने अध्ययन किया कि कोरोना वायरस (covid-19) से संक्रमित होने पर किस तरह के लक्षण हुए और यह मानव शरीर के किन अंगों को ज्यादा संक्रमित करता है.

    वैज्ञानिकों की रिपोर्ट के अनुसार जो लोग कोरोना वायरस से संक्रमित थे उन लोगों में 7 लक्षण दिखाई दिए जैसे कि
    • गले में खराश होना
    • सांस लेने में परेशानी यानी कि स्वसन तंत्र को प्रभावित होना
    • डायरिया के लक्षण
    • सूखी खांसी
    • जुखाम
    • सिरदर्द
    • तेज बुखार

    जो व्यक्ति कोरोना वायरस से संक्रमित हो जाते हैं उनके अंदर जो मूल लक्षण देखने को मिलते हैं तेज बुखार और सूखी खांसी और यह खासी मौसम के हिसाब से होने वाली खांसी से बिल्कुल अलग होती है.

    क्योंकि कोरोना वायरस से होने वाली सूखी खांसी लगातार होती रहती है.

    आपको खांसी में बलगम भी आ सकता है तो फिर यह चिंता का विषय बन जाता है. इस वायरस में हमारे शरीर का तापमान 37.8 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जाता है जिस कारण व्यक्ति को ठंड और कपकपी महसूस होती है.

    बुखार और खांसी होने के बाद कुछ लक्षण हमें और देखने को मिलते हैं जैसे कि गले में खराश होना, सिर दर्द, डायरिया, उल्टी होना.

    चीन में हुई कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की एक रिपोर्ट के अध्ययन के अनुसार 56000 से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव मरीजों में सूखी खांसी, सांस लेने में दिक्कत, गले में खराश और बुखार जैसे लक्षण सामने आए थे.

    करीब 5 मरीजों को जी मिचलाने और उल्टी के लक्षण भी उभरे थे. 4 फीसदी मरीजों को डायरिया हुआ था. गंभीर संक्रमण के दौरान फेफड़ों में घाव और निमोनिया जैसी लक्षण दिखते हैं. लेकिन अधिकांश कोरोना वायरस मरीजों में सामान्य फ्लू जैसे लक्षण भी पाए गए.

    एलर्जी,फ्लू और कोरोना के बीच का अंतर समझें – (Understand the difference between allergic, flu and corona in hindi)

    आप खुद अपने आप को जांच के पता कर सकते हैं कि आपको कोरोना है या नहीं इन दिनों अगर हमें किसी तरह का जुखाम खांसी हो रही है तो हम यह न समझें कि कोरोना वायरस से हम संक्रमित हो गए हैं.

     यदि आपको जुखाम, बुखार है तो यह फ्लू या किसी प्रकार की एलर्जी के कारण भी हो सकता है.

    जरूरी नहीं कि यह कोरोना वायरस के लक्षण है. अधिकांश एलर्जी और इनफ्लुएंजा मौसम के हिसाब से होती है बसंत के मौसम में नाक बहने की शिकायत रहती है तो यह किसी प्रकार की एलर्जी हो सकती है. सर्दी के मौसम में आपको खांसी जुखाम हो रहा है तो यह फ्लू की बीमारी के लक्षण हो सकते हैं.

    लेकिन यदि मौसम थोड़ा गर्म है और आपको फ्लू जैसे लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो इसे सिर्फ फ्लू कहकर नजर अंदाज ना करें क्योंकि यह कोरोना वायरस भी हो सकता है. इनफ्लुएंजा अक्सर ज्यादा तापमान के होने से मर जाते हैं.

    हालांकि वैज्ञानिकों कोरोना वायरस के अधिक तापमान में खत्म होने के साक्ष्य इकट्ठे कर रहे हैं. कोरोना वायरस ने अधिक तापमान और नमी वाले सिंगापुर जैसे देशों में भी लोगों को संक्रमित किया है.डॉक्टरों का कहना है कि आप लक्षणों के बिगड़ने पर ध्यान रखें.

    एलर्जी से होने वाली तकलीफ इलाज ना लेने तक वैसी ही बनी रहती है. फ्लू के लक्षण सप्ताह भर में ठीक हो जाते हैं. वही कोविड-19 के लक्षण सामान्य फ्लू के मुकाबले गंभीर हो जाते हैं और इससे मरने वालों की संख्या भी ज्यादा हो जाती है.

    फ्लू से होने वाली बीमारी हमें 2 या 3 दिन में पता चल जाती है लेकिन कोरोनावायरस से होने वाली बीमारी या लक्षणों का  14 दिनों में पता चलता है.

    कोरोना वायरस (COVID-19) कैसे फैलता है – (How the corona virus spreads in hindi)

    आज पूरी दुनिया के हर एक देश में कोरोना वायरस (कोविड-19) ने हाहाकार मचा रखा है. चीन के वुहान शहर से शुरू हुआ यह वायरस आज पूरी दुनिया में फैल गया है. इस वायरस की उत्पत्ति कैसे हुई और इससे इनफेक्टेड होने वाला पहला व्यक्ति कौन था इसकी पुष्टि अभी भी सही से नहीं हो पाई है.

    इस वायरस से संक्रमित व्यक्तियों के लिए अभी तक ना ही कोई दवाई, वैक्सीन और टीका बन पाया है इस वजह से बहुत से लोग ठीक भी हो रहे हैं और कई लोगों की मृत्यु लगातार होती जा रही है. कोरोनावायरस बहुत छोटा लेकिन इतना ज्यादा संक्रमित होता है या प्रभावी होता है कि आज दुनिया में इसका असर दिख रहा है.


    कोरोना वायरस मनुष्य के बाल की तुलना में 900 गुना छोटा है फिर भी यह वायरस कितनी तेजी से पूरी दुनिया में फैल रहा है. अमेरिका, इटली, स्पेन, भारत जैसे देश भी इस वायरस के बढ़ते हुए खतरे से जूझ रहे हैं.

    जब कोरोना वायरस हमारे शरीर में प्रवेश कर जाता है तो हमारे शरीर की कोशिकाएं वायरस से संक्रमित हो जाती हैं और वायरस हमारी कोशिकाओं के अंदर पहुंच जाता है धीरे धीरे यह वायरस हमारे शरीर में फैलने लगता है. आइए जानते हैं किन कारणों से यह वायरस फैलता है.

    1- संक्रमित व्यक्ति के पास जाने से – (Going to an infected person in hindi)


    यदि आप ऐसे व्यक्ति के संपर्क में आ जाते हैं जिसे कोरोनावायरस संक्रमित कर चुका है तो आपको भी कोरोना का संक्रमण हो सकता है.

    विशेषज्ञ कहते हैं कि संक्रमित व्यक्ति ने अगर किसी वस्तु, नोट, मशीन या किसी भी प्रकार की चीज को स्पर्श किया है और अनजाने में यदि आप भी उसे छू लेते हैं तो आपको भी कोरोना से संक्रमित होने का खतरा है. क्योंकि कोरोना वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्तियों में फैलता है.

    2- छींकने या खांसने से – (Sneezing or coughing in hindi) 


    यदि कोई व्यक्ति कोरोना वायरस संक्रमित है लेकिन आपको पता नहीं कि यह व्यक्ति संक्रमित है या नहीं और आप उसके पास खड़े हो जाते हैं.

    यदि वह अपने मुंह पर टिशू पेपर या रुमाल रखकर छींकता या खांसता नहीं है. तो उस समय उसके मुंह से निकलने वाली बूंदें यदि आपके नाक या मुंह के पास चली जाती हैं तो यह वायरस आपके शरीर में प्रवेश कर सकता है. और कोरोना वायरस से आपको इनफेक्टेड कर सकता है.

    कई विशेषज्ञों का कहना है की कोरोनावायरस से संक्रमित होने का प्रमुख कारण हमारा खांसना या छींकना ही है. इस चीज का आप विशेष ध्यान रखें.

    3- किसी वस्तु को छूने से जो संक्रमित हो – (Touching something that is infected in hindi)


    यदि आप किसी ऐसी वस्तु को छू लेते हैं जो किसी संक्रमित व्यक्ति ने पहले से छू रखी हो तो आपको भी कोराना से इनफेक्टेड होने का खतरा है.

    यदि आप किसी ग्रॉसरी की दुकान पर जाते हैं और उस दुकान का मालिक कोरोना वायरस से इनफेक्टेड है तो आप भी यदि उस ग्रॉसरी की दुकान में कुछ ऐसी वस्तु को जैसे कि स्वाइप मशीन, नोट, काउंटर या उसके द्वारा दिया हुआ कोई भी सामान छू लेते हैं तो यह वायरस आपके संपर्क में आ जाता है.


    आप जब अपने हाथों को अपने आंख, नाक या मुंह के पास दो-चार बार लगा लेते हैं तो यह वायरस आपके शरीर में प्रवेश कर जाता है और आप भी इस खतरनाक बीमारी के शिकार बन जाते हैं. इसलिए जहां भी भीड़-भाड़ वाली जगह, बस, घर या ऐसी जगह जहां से कोराना संक्रमण की पुष्टि हुई हो वहां ना जाए और किसी चीज को स्पर्श ना करें.

    हर एक देश में जहां भी कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है उस जगह को अच्छी तरह से सैनिटाइज किया जा रहा है जिससे कोरोना वायरस का प्रभाव खत्म हो जाए.

    4- क्या मक्खी, कीट से भी फैल सकता है वायरस? – (Can fly spread virus through insects in hindi?)


    स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार मक्खियों से संक्रमण फैलता है लेकिन कोरोना संक्रमण नहीं होता है. मेडिकल साइंस की पत्रिका लेसेंट के अध्ययन में यह बात बताई गई थी कि मक्खियों से भी संक्रमण फैल सकता है.

    यानी किसी संक्रमित व्यक्ति के खुले में शौच करने के बाद उसके संपर्क में आने वाले कीट, मक्खी खाद पदार्थ फल सब्जियों पर बैठ सकते हैं फिर उन खाद्य पदार्थों को जो व्यक्ति ग्रहण करेगा उनमें भी कोरोना पहुंच सकता है.

    मल-मुख के रास्ते कोरोना संक्रमण फैलने की ज्यादा आशंका उन गरीब विकासशील देशों में होती है जहां पर साफ सफाई पर ज्यादा ध्यान ना देना और खुले में शौच का चलन ज्यादा है.

    वैज्ञानिकों के मुताबिक यह मानव मल में हफ्तों तक यह वायरस जिंदा रहता है. वैज्ञानिकों का कहना है कि अस्पतालों में भर्ती मरीजों के शौच निस्तारण में स्वच्छता कर्मियों को सावधानी बरतनी चाहिए. मानव मल से कोरोना की बात को इसलिए भी कह सकते हैं क्योंकि अमेरिका के एक संक्रमित मरीज के मल से यह पाया गया था.

    कोरोना वायरस के क्या लक्षण है और यह कैसे फैलता है?

    क्या हवा से कोरोना वायरस फैलता है? – (Does the corona virus spread through the air in hindi?)

    विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने यह बताया है कि कोरोनावायरस का संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में छींकने या खांसने और उनके संपर्क में आने से होता है.

    हवा से कोरोना के संक्रमण के फैलने का अभी तक कोई भी मामला सामने नहीं आया है. वैज्ञानिकों ने बताया है कि कोरोना से पीड़ित मरीजों के इलाज में लगे हुए स्वास्थ्य कार्यकर्ता को मरीजों के थूक, खासी, और कफ से बचने की सलाह दी गई है.

    क्योंकि यह संक्रमण एक इंसान से दूसरे इंसान में तभी फैलता है जब कोरोना पीड़ित खास रहा हो या फिर उसका कफ निकल रहा हो. क्योंकि उस समय यह वायरस उसके आसपास फैल जाता है. अभी तक कोई ऐसा तथ्य सामने नहीं आया है कि यह संक्रमण हवा से भी फैल सकता है.

    डब्ल्यूएचओ के अनुसार एक प्रयोगशाला परीक्षण में कुछ वायु कणों को मशीन में छिड़का गया और फिर उसमें कोविड-19 या कोरोनावायरस की खोज की गई लेकिन उसमें यह वायरस नहीं मिला. लेकिन यह संक्रमण हवा से फैलता है या नहीं इसकी रिसर्च अभी भी चल रही है और कुछ अध्ययन के बाद इनमें किसी भी प्रकार का बदलाव या विचार किया जा सकता है.

    निष्कर्ष – (The conclusion in hindi) 

    आज पूरी दुनिया में कोरोना वायरस (covid 19) की महामारी छाई हुई है. लगातार लोगों की मृत्यु और कोरोना वायरस के संक्रमण से प्रभावित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है.

    हमने अपने इस पूरी पोस्ट में कोरोना वायरस के लक्षण और कैसे यह फैलता है, क्या कोरोना वायरस हवा के द्वारा भी मनुष्य को संक्रमित कर सकता है.

    इस पोस्ट में कोरोना वायरस के लक्षण और यह कैसे फैलता है जितनी भी जानकारी हो सकती है हमने पूरी तरह से चर्चा की है.

    मैं आशा करता हूं कि यह लेख आपकी जानकारी के लिए फायदेमंद साबित हो. आखरी में मैं यही कहूंगा कि अपने आप को सुरक्षित रखें और घर में रहे और वह हर नियम का पालन करें जिससे आप सुरक्षित रह सकते हैं. धन्यवाद

    और भी पढ़ें

    Share Post

    0 Comments: