September 12, 2021

इम्यूनिटी बढ़ाने वाले फल और सब्जियों के नाम | Names of fruits and vegetables that increase immunity in hindi

इम्यूनिटी बढ़ाने वाले फल और सब्जियों के नाम | Names of fruits and vegetables that increase immunity in hindi
इम्यूनिटी बढ़ाने वाले फल और सब्जियों के नाम | Names of fruits and vegetables that increase immunity in hindi
इम्यूनिटी को बूस्ट करने वाले फल और सब्जियों के नाम.

जीवन का आनंद वही व्यक्ति ले सकता है जो शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ हो और स्वस्थ रहने के लिए नियमित व्यायाम और पौष्टिक आहार बहुत आवश्यक है.

September 6, 2021

शरीर को फिट रखने के लिए घर पर एक्सरसाइज कैसे करें | How to do exercise at home in hindi?

शरीर को फिट रखने के लिए घर पर एक्सरसाइज कैसे करें | How to do exercise at home in hindi?
शरीर को फिट रखने के लिए घर पर एक्सरसाइज कैसे करें | How to do exercise at home in hindi?

अक्सर यह सोचते हैं कि हम भी जिम जाकर शरीर को स्वस्थ एवं फिट बनाएंगे परंतु अत्यधिक व्यस्तता व आलसीपन की वजह से केवल सोचते ही रह जाते हैं लेकिन जिम जाने के लिए समय नहीं निकाल पाते हैं.

August 31, 2021

सर्दी में खाए जाने वाले 10 फलों के नाम और इनके फायदे | winter fruit names in hindi

सर्दी में खाए जाने वाले 10 फलों के नाम और इनके फायदे | winter fruit names in hindi
सर्दी में खाए जाने वाले 10 फलों के नाम और इनके फायदे | winter fruit names in hindi

जब सर्दियों का मौसम शुरू होने लगता है तो इसका असर स्वास्थ्य पर जरूर पड़ता है क्योंकि शरीर को मौसम के हिसाब से ढलने में थोड़ा समय लग जाता है और इस बीच कई छोटी-छोटी बीमारियों के होने का डर भी रहता है जैसे कि सर्दी, खांसी, बुखार और जुखाम आदि.

August 26, 2021

घर पर कार्डियो एक्सरसाइज कैसे करें | How do cardio at home in hindi?

घर पर कार्डियो एक्सरसाइज कैसे करें | How do cardio at home in hindi?
घर पर कार्डियो एक्सरसाइज कैसे करें | How do cardio at home in hindi?

किसी भी बॉडी बिल्डर की बॉडी को देखकर हमें भी उसी तरह की बॉडी बनाने की इच्छा होने लगती है और सोचने लगते हैं कि हम भी जिम जाकर खूब एक्सरसाइज करेंगे और बॉडी बनाएंगे लेकिन जिंदगी में इतने काम और उलझने होती है कि अपने ही शरीर को स्वस्थ और फिट रखने के लिए समय नहीं निकाल पाते हैं.

August 18, 2021

वार्म अप एक्सरसाइज क्या है, कैसे करें और इसे करने के फायदे | What is warm up, how to do it and its benefits in hindi?

वार्म अप एक्सरसाइज क्या है, कैसे करें और इसे करने के फायदे | What is warm up, how to do it and its benefits in hindi?
वार्म अप क्या है, कैसे करें और इसे करने के फायदे | What is warm up, how to do it and its benefits in hindi?

जिस तरह स्वस्थ और फिट रहने के लिए व्यायाम करना जरूरी होता है उसी तरह व्यायाम को शुरू करने के पहले वार्म अप करना उससे भी ज्यादा जरूरी होता है. वार्म अप का हिंदी मतलब (Meaning of warm up in hindi) जोश में आना, शरीर को उत्तेजित करना, गर्म कर देना और बढ़ावा देना होता है.

August 14, 2021

कार्डियो एक्सरसाइज क्या है और इसे करने के 10 बड़े फायदे | what is Cardio exercise and its benefits in hindi?

कार्डियो एक्सरसाइज क्या है और इसे करने के 10 बड़े फायदे |  what is Cardio exercise and its benefits in hindi?
कार्डियो एक्सरसाइज क्या है और इसे करने के 10 बड़े फायदे |  what is Cardio exercise and its benefits in hindi?
कार्डियो एक्सरसाइज करने से हृदय तो स्वस्थ होता ही है इसके अलावा शरीर को अनेक लाभ होते हैं.

जिस तरह जीवन की जीविका जीने के लिए आहार जरुरी होता है उसी तरह शरीर को स्वस्थ और फिट रखने के लिए व्यायाम (exercise) जरुरी होता है.

August 7, 2021

फाइबर युक्त भोजन के फायदे और नुकसान एवं फलों के नाम | Fiber-rich foods and fruits name in hindi

फाइबर युक्त भोजन के फायदे और नुकसान एवं फलों के नाम | Fiber-rich foods and fruits name in hindi
फाइबर युक्त भोजन के फायदे और नुकसान एवं फलों के नाम | Fiber-rich foods and fruit name in hindi

जिस तरह गाड़ी को चलाने के लिए ईंधन की आवश्यकता होती है उसी तरह शरीर को स्वस्थ रखने के लिए पोषण तत्वों की आवश्यकता होती है. हर पोषक तत्व का शरीर के अंदर एक विशेष काम होता है.

यहां हम फाइबर तत्व की बात कर रहे हैं जो शरीर की पाचन क्रिया को दुरुस्त करने के लिए और पेट से संबंधित कई बीमारियों के जोखिम को कम करने के लिए फायदेमंद होता है.

इस लेख के द्वारा जानेंगे कि फाइबर क्या है? फाइबर तत्व शरीर के लिए क्यों जरूरी होते हैं? फाइबर तत्व के क्या फायदे हैं? फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ, फाइबर वाली सब्जी और फलों के नाम (फाइबर फूड्स), फाइबर के नुकसान आदि.

यदि हम फाइबर युक्त भोजन का सेवन करते है तो यह पाचन क्रिया की प्रतिक्रिया में सुधार करता है इसके अलावा भूख कम लगती है जिस वजह से वजन कम करने में भी मदद मिलती है.


    फाइबर क्या है | What is fiber in hindi?

    फाइबर एक तरह का कार्बोहाइड्रेट तत्व होता है जो दो प्रकार का होता है घुलनशील और अघुलनशील फाइबर. 

    घुलनशील फाइबर पानी में आसानी से घुल जाते हैं जो पेट में जाकर गाड़े तरल पदार्थ में बदलकर मल को मुलायम बनाने का काम करता है ताकि कब्ज जैसी समस्याएं ना हो. 

    जबकि अघुलनशील फाइबर शरीर में मौजूद अपशिष्ट भोजन को पचाने और उन्हें साफ करने में काम आते हैं. कब्ज बीमारी को कम करने के लिए फाइबर युक्त भोजन के साथ अधिक मात्रा में पानी पिए अन्यथा मल त्यागने में बाधा हो सकती है.

    फाइबर क्यों जरूरी है | Why is Fiber Important in hindi?

    जिस तरह शरीर की मानसिक और शारीरिक शक्ति को बढ़ाने के लिए विटामिंस की आवश्यकता होती है उसी तरह पाचन क्रिया की अनेक क्रियाओं को संचालित करने, कब्ज की शिकायत को दूर करने, खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने और डायबिटीज के रोगियों के लिए यह आवश्यक तत्व है.

    इसके अलावा रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाना, हृदय रोग, कैंसर, वजन को नियंत्रित व कम करने और पेट व आंतों की सफाई करने में फाइबर बहुत ही जरूरी पोषक तत्व होता है.

    फाइबर के स्रोत | Best source of fiber in hindi

    यहां हम फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों के बारे में बात करेंगे जिनके अंदर फाइबर की अच्छी मात्रा पाई जाती है जो शरीर को स्वस्थ (fiber health benefits) रखने के लिए आवश्यक होते हैं.

    1. फाइबर युक्त फल (fiber rich fruits)

    फाइबर युक्त भोजन के लिए बहुत से ऐसे फलों का सेवन कर सकते हैं जिनके अंदर फाइबर की अच्छी मात्रा पाई जाती है.

    फाइबर तत्व के अलावा फलों के अंदर मैग्नीशियम, आयरन, कैल्शियम, जिंक, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-इन्फ्लेमेटरी, नियासिन, एंटी-बैक्टीरियल और विटामिन्स पाए जाते हैं जो शरीर को अंदरूनी शक्ति प्रदान करके इम्युनिटी पावर मजबूत करते हैं तथा कई गंभीर बीमारियों के जोखिम को भी कम करते हैं.

    नीचे एक टेबल के द्वारा फाइबर वाले फल और उनकी मात्रा के बारे में घटते क्रम में दर्शाया है.

    फाइबर फलों की सूची – (List of fiber fruits Value Per 100 g)

    फल (The fruits) मात्रा (Quantity)
    एवोकाडो (Avocado) 6.7 ग्राम
    खजूर (Dates) 6.7 ग्राम
    अमरूद (Guava) 5.4 ग्राम
    ब्लैकबेरी (Blackberry) 5.3 ग्राम
    करौंदा (gooseberry) 4.3 ग्राम
    अनार (Pomegranate) 4 ग्राम
    नाशपाती (Pear) 3.10 ग्राम
    कीवी (Kiwi) 3 ग्राम
    अंजीर (Fig) 2.9 ग्राम
    नींबू (Lemon) 2.8 ग्राम
    केला (Banana) 2.6 ग्राम
    संतरा (Orange) 2.5 ग्राम
    ब्लूबेरी (Blueberry) 2.4 ग्राम
    शरीफा (custard apple) 2.4 ग्राम
    सेब (Apple) 2.4 ग्राम
    पपीता (papaya) 1.70 ग्राम
    आम (Mango) 1.60 ग्राम
    अनानास (Pineapple) 1.40 ग्राम
    लीची (lychee) 1.3 ग्राम
    अंगूर (Grapes) 0.9 ग्राम
    तरबूज (Watermelon) 0.4 ग्राम

    2. फाइबर युक्त सब्जियां (fiber rich vegetables)

    फलों के अलावा सब्जियों के अंदर भी फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है यदि प्रतिदिन भोजन में इन सब्जियों का सेवन करते हैं तो इससे फाइबर तत्व के अलावा मैग्नीशियम, कैल्शियम, आयरन, जिंक, विटामिंस, एंटीऑक्सीडेंट और कार्बोहाइड्रेट जैसे पौष्टिक तत्वों की भी प्राप्ति होती है.

    नीचे टेबल के द्वारा फाइबर वाली सब्जियां और उनकी मात्रा के बारे में बताया है.

    फाइबर सब्जियों की सूची – (List of Fiber vegetables Value Per 100 g)

    सब्जियां (Vegetables) मात्रा (Quantity)
    सेम फली (lima bean) 19 ग्राम
    कमल की जड़-मुरार (Lotus root) 4.9 ग्राम
    एडामे बीन्स (edamame beans) 4.8 ग्राम
    कोलार्ड पत्ते (collard leaves) 4 ग्राम
    ब्रसल स्प्राउट (brussels sprouts) 3.80 ग्राम
    बैंगन (eggplant) 3.40 ग्राम
    हरी सेम (green beans) 3.4 ग्राम
    सरसों का साग (mustard Greens) 3.2 ग्राम
    गाजर (Carrots) 2.8 ग्राम
    करेला (bitter gourd) 2.80 ग्राम
    ब्रोकोली (Broccoli) 2.60 ग्राम
    बंद गोभी (Cabbage) 2.50 ग्राम
    पालक (Spinach) 2.2 ग्राम
    चौलाई का साग (Amaranth Greens) 2.2 ग्राम
    शिमला मिर्च (bell pepper) 2.1 ग्राम
    आलू (potato) 2.1 ग्राम
    गोभी (cauliflower) 2.0 ग्राम
    कटहल (Jackfruit) 1.5 ग्राम
    टमाटर (tomato) 1.2 ग्राम
    लौकी (Bottle gourd) 0.5 ग्राम
    कद्दू (Pumpkin) 0.5 ग्राम

    3. फाइबर युक्त सूखे मेवे (fiber rich dried fruits in hindi)

    फाइबर के स्रोत (फल और सब्जियों के अलावा) ड्राई फ्रूट्स के अंदर भी फाइबर की अच्छी मात्रा पाई जाती है. ड्राई फ्रूट्स के सेवन से फाइबर की प्राप्ति तो होती ही है इसके अलावा कई प्रकार के खनिज तत्व और विटामिंस भी मिलते है.

    यह पोषक तत्व कई प्रकार की गंभीर बीमारियों का जोखिम कम करने में मदद करते हैं जैसे कि मधुमेह, हृदय रोग, कोलेस्ट्रॉल, सूजन, डायबिटीज और ब्लड प्रेशर आदि.

    किस ड्राई फ्रूट्स के अंदर फाइबर की कितनी मात्रा पाई जाती है नीचे टेबल के द्वारा दर्शाया है.

    फाइबर युक्त सूखे मेवे की सूची – (List of fiber rich dried fruits Value Per 100 g)

    सूखे मेवे (Dried fruits) मात्रा (Quantity)
    बादाम (Almond) 12.50 ग्राम
    पिस्ता (Pistachio) 10.3 ग्राम
    नारियल (Coconut) 9 ग्राम
    मूंगफली (Peanut) 8.5 ग्राम
    अखरोट (Walnut) 6.7 ग्राम
    काजू (Cashew) 5.9 ग्राम

    फाइबर युक्त भोजन के फायदे | benefits of fiber rich food in hindi

    पोषक तत्व शरीर की अनेक क्रियाओं को संचालित करने के लिए ईंधन के रूप में कार्य करते हैं. अतः जब शरीर को पर्याप्त मात्रा में ईंधन नहीं मिलेगा तो शरीर धीरे-धीरे बीमार पड़ने लगेगा इसलिए आहार में हमेशा पोषक तत्वों वाला भोजन ग्रहण करें.

    आइए जानते हैं फाइबर के क्या फायदे है?

    1. फाइबर के फायदे वजन कम करने में (Loss weight)

    जो लोग मोटापे से परेशान रहते हैं उन्हें फाइबर युक्त भोजन डाइट में शामिल करना चाहिए क्योंकि फाइबर युक्त भोजन के अंदर फैट, कैलोरी कम होता हैं जो मेटाबॉलिज्म के स्तर को बढ़ाने का काम करते हैं. इसके सेवन से पेट भरे होने का एहसास होता है जिस कारण भूख कम लगती है और अतिरिक्त कैलोरी लेने से बच जाते हैं.

    कई रिसर्च रिपोर्टों के अनुसार यह साबित हुआ है कि जो लोग अपने डाइट में रोजाना फाइबर युक्त भोजन को शामिल करते हैं वह अपने वजन को नियंत्रित तथा कम कर सकते हैं, फाइबर तत्व फैट्स को पचाने में भी मदद करते हैं.

    सुबह के नाश्ते में हाई फाइबर फूड लेना सबसे अच्छा माना जाता है क्योंकि इससे लंबे समय तक भूख नहीं लगती है जिस कारण बार-बार खाना खाने से बच सकते हैं.

    2. पाचन शक्ति को बढ़ाने में फाइबर के फायदे (Boost digestion power)

    फाइबर तत्व का सबसे उपयोगी काम पाचन किया की कई क्रियाओं को संचालित करना है जिससे पाचन क्रिया दुरुस्त होती है, कब्ज जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है, आंतों की सफाई और सूजन का खतरा भी कम होता है.

    पाचन क्रिया को दुरुस्त करने के लिए आहार में दही को जरूर शामिल करें क्योंकि दही में प्रोबायोटिक होते हैं जो पाचन शक्ति को बढ़ाते हैं.

    3. स्वस्थ बालों के लिए फाइबर के फायदे (healthy hair)

    जब शरीर में विटामिंस, खनिज तत्व और फाइबर तत्व की कमी होने लगती है तो बालों के झड़ने और रूखेपन जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं.

    इसलिए अपने आहार में सभी प्रकार के विटामिन और फाइबर युक्त भोजन को जरूर शामिल करें जो आपके बालों की कई प्रकार की समस्याओं को कम करने में मदद कर सकते हैं.

    4. कोलेस्ट्रोल को करे कम (reduce cholesterol)

    जब शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ने लगती है तो हृदय से संबंधित बीमारियों का जोखिम बढ़ जाता है जैसे की हार्टअटैक, हाइपरटेंशन और हार्ट ब्लॉकेज आदि.

    इसलिए शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल को कम और नियंत्रण करने के लिए आहार में फाइबर तत्व वाले फल और सब्जियों का सेवन जरूर करें, क्योंकि घुलनशील फाइबर कम घनत्व वाले लिपॉप्रोटीन या खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करते हैं.

    डॉक्टर्स भी प्रतिदिन 20 से 35 ग्राम फाइबर लेने की सलाह देते हैं.

    5. सुंदर त्वचा के लिए (for beautiful skin)

    शरीर को स्वस्थ रखने और कई प्रकार की बीमारियों को दूर करने के लिए पोषक तत्व किसी दवाइयों से कम नहीं. जब शरीर में फाइबर तत्व की कमी होने लगती है तो इसका असर चेहरे, बालो और सेहत पर दिखाई देने लगता है.

    फाइबर की कमी से चेहरे पर कील मुंहासे जैसी समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती हैं इसलिए आहार में फाइबर युक्त भोजन को जरूर शामिल करें जो आपकी त्वचा को निखारने में फायदेमंद हो सकते हैं.

    6. फाइबर करे आंतों की सफाई (Fiber cleanses the intestines)

    पेट या आंतों की सफाई के लिए फाइबर युक्त भोजन बहुत आवश्यक होता है फाइबर तत्व बिना अवशोषित हुए ही आंत के जरिए बाहर निकल जाते हैं जिससे पेट व आंत की सफाई आसानी से हो जाती है.

    फाइबर तत्व आंतों में चिपकते नहीं है जिससे पाचन संबंधी गंभीर समस्याएं भी दूर हो सकती हैं. फाइबर युक्त फल और सब्जियों के सेवन से कब्ज जैसी समस्याओं से भी छुटकारा पाने में मदद मिलती है.

    फाइबर के नुकसान | Loss of fiber in hindi

    फाइबर खाद पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर में कुछ दुष्प्रभाव देखे जा सकते है जैसे कि

      ▪ गैस का बनना.
      ▪ सूजन होना.
      ▪ पेट में ऐंठन, दर्द और अपच की समस्या.
      ▪ मल त्यागने में परेशानी का सामना करना.
      ▪ डायरिया.

    आखिरी शब्द है जरूरी | last word is important

    जैसा कि ऊपर पढ़ चुके हैं की वाहन को चलाने के लिए ईंधन की आवश्यकता होती है वैसे ही शरीर को चलाने के लिए विटामिंस की आवश्यकता होती है.

    इस लेख के द्वारा जाना की फाइबर तत्व क्या है? फाइबर तत्व शरीर के लिए क्यों जरूरी होते हैं? फाइबर तत्व के क्या फायदे हैं? फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ जैसे की सब्जी, फल, ड्राई फ्रूटस और फाइबर के नुकसान आदि.

    सभी पोषक तत्वों में फाइबर भी एक जरूरी पोषक तत्व होता है जो शरीर की पाचन शक्ति को दुरुस्त करने के लिए जरूरी होता है इसलिए अपने दैनिक आहार में फाइबर युक्त भोजन को जरूर शामिल करें.

    पूछे जाने वाले प्रश्न | FAQ

    Q. फाइबर तत्व शरीर के लिए क्यों जरूरी है?

    A. सभी प्रकार के विटामिंस शरीर को स्वस्थ रखने का काम करते हैं उनमें से फाइबर तत्व भी है जो शरीर की पाचन क्रिया को दुरुस्त करने के लिए और कई गंभीर बीमारियों के जोखिम को कम करने के लिए आवश्यक है.

    Q. फाइबर कौन-कौन से फलों में पाया जाता है?

    A. फाइबर तत्व कई फलो के अंदर मौजूद होता है जैसे कि अनार, सेब, कीवी, एवोकाडो ,खजूर, अमरुद, ब्लैकबेरी, नाशपाती, अंजीर, नींबू, केला, संतरा, पपीता, आम, अनानास और अंगूर आदि.

    Q. फाइबर युक्त सब्जियां कौन-कौन सी है?

    A. फाइबर युक्त सब्जियां जैसे कि पालक, बंद गोभी, फूलगोभी, बैगन, हरी सेम, सरसों का साग, गाजर, करेला, ब्रोकोली, शिमला मिर्च, आलू, कटहल, टमाटर, लौकी और कद्दू आदि.

    Q. फाइबर कितने प्रकार का होता है?

    A. फाइबर दो प्रकार का होता है घुलनशील और अघुलनशील. घुलनशील तत्व पानी में आसानी से घुल जाते हैं जो कब्ज जैसी समस्याओं को दूर करने में मदद करते हैं और अघुलनशील फाइबर भोजन को पचाने व आंतों को साफ करने का काम करते है.

    Q. फाइबर युक्त भोजन करने से क्या फायदे होते हैं?

    A. यदि हम अपने आहार में फाइबर युक्त भोजन शामिल करते हैं तो इससे शरीर को कई फायदे होते हैं जैसे कि खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में, पाचन क्रिया को बढ़ाने में, स्वस्थ बालों और त्वचा के लिए, आंतों की सफाई और वजन कम करने में फाइबर तत्व बहुत महत्वपूर्ण है.

    और पढ़ें...

      ▪  प्रातकाल टहलने के अचूक फायदे.
      ▪  विटामिन डी रखे हड्डियों को मजबूत.
      ▪  कैल्शियम की कमी को पूरा करने के उपाय.
      ▪  लीवर को मजबूत करने के उपाय.
      ▪  एनीमिया की बीमारी कैसे दूर करें?

    August 1, 2021

    संतरा खाने के 12 फायदे और नुकसान | benefits and side effects of oranges in hindi

    संतरा खाने के 12 फायदे और नुकसान | benefits and side effects of oranges in hindi
    संतरा खाने के 12 फायदे और नुकसान | benefits and side effects of oranges in hindi

    गर्मी और सर्दी दोनों ही मौसम मे संतरे का सेवन करना फायदेमंद होता है क्योंकि संतरे के अंदर पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है जो शरीर को नई ऊर्जा प्रदान करता है तथा शरीर को चुस्त और दुरुस्त रखता है.

    फिटनेस हेल्थ के इस लेख में जानेंगे संतरा खाने के फायदे और नुकसान, संतरा के अंदर पाए जाने वाले विटामिन, संतरा फल की तासीर, संतरा कब खाना चाहिए या संतरा खाने का सही समय क्या है?

    संतरे का स्वाद खाने में चटपटा होता है इसलिए हर कोई इसे खाना पसंद करता है तथा इसके सेवन से तन ठंडा और मन प्रसन्न चित्त होता है.

    संतरा फल की ORAC वैल्यू 1819 (µmolTE/100 gm) होती है. ORAC (oxygen radical absorbance capacity) का मतलब ऑक्सीजन रेडिकल अवशोषण क्षमता है. यह किसी भी खाद्य पदार्थ की कुल एंटीऑक्सीडेंट क्षमता को मापने का पैमाना है.

    इससे हमें यह ज्ञात होता है कि संतरे के अंदर विटामिन सी के साथ-साथ एक अच्छी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट तत्व भी मौजूद होते है.

    इसके अलावा संतरे के अंदर और भी कई विटामिन तथा खनिज तत्व पाए जाते हैं जैसे कि ऊर्जा, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फाइबर, नियासिन, थायमिन, विटामिन ए, विटामिन सी, सोडियम, पोटेशियम, आयरन, मैग्नीशियम, जिंक और कैल्शियम इत्यादि.


      संतरा खाने के फायदे | Benefits of Orange in hindi

      जिस तरह आहार सेहत को स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है उसी प्रकार फलों का सेवन भी अच्छे स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है, क्योंकि फलों से वह सभी विटामिंस की प्राप्ति होती है जो शरीर की अंदरूनी शक्ति को बढ़ाने के लिए आवश्यक होते हैं.

      तो आइए जानते हैं संतरा खाने से क्या फायदा होता है?

      1. बढ़ाएं प्रतिरोधक क्षमता (Increase immunity)

      बाहरी संक्रमण और छोटी-छोटी बीमारियों से बचने के लिए शरीर की इम्यूनिटी सिस्टम का मजबूत होना बहुत जरूरी है. इम्यूनिटी सिस्टम को मजबूत करने के लिए पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है क्योंकि पोषक तत्व या विटामिन शरीर को स्वस्थ रखने और अंदरूनी शक्ति को बढ़ाने के लिए एक ईंधन के रूप में कार्य करते हैं.

      संतरा का नियमित सेवन करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद मिलती है क्योंकि संतरा के अंदर प्रचुर मात्रा में विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट तत्व होते हैं जो शरीर को डिटॉक्सिफाई करके बाहरी संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं.

      100 ग्राम संतरा के अंदर 48.5 mg विटामिन C होता है.

      2. तनाव को रखे दूर (keep stress away)

      आज के समय में हर व्यक्ति कहीं ना कहीं तनाव की बेड़ियों में जकड़ा हुआ है तनाव एक ऐसी बीमारी है कि जो भी इसकी गिरफ्त में आता है वह कभी भी स्वस्थ और खुश नहीं रह पाता है. अगर आप आहार में पर्याप्त मात्रा में विटामिंस लेते हैं तो कहीं ना कहीं यह तनाव को दूर करते है.

      संतरे के अंदर पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी, एंटीऑक्सीडेंट तत्व और पोटेशियम पाया जाता है जो ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करके तनाव को दूर रखने में मदद करता है.

      प्रेग्नेंसी के समय महिलाओं को भी तनाव से बचना चाहिए वरना इसका सीधा असर बच्चे पर पड़ सकता है. गर्भवती महिलाओं को संतरे का सेवन करना चाहिए क्योंकि संतरा खाने से मन और तन दोनों खुशनुमा बने रहते हैं.

      3. पाचन और कब्ज में संतरे के फायदे (Digestion and Constipation)

      गलत खान-पान और जीवनशैली की वजह से धीरे- धीरे पाचन शक्ति कमजोर होने लगती है और कब्ज, गैस, अपच जैसी समस्याएं होने लगती हैं.

      इन समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए संतरे का सेवन बहुत फायदेमंद होता है क्योंकि संतरे के अंदर मौजूद फाइबर और सिट्रिक एसिड की वजह से पाचन शक्ति बढ़ती है और कब्ज जैसी परेशानियों को कम करने में मदद मिलती है.

      3. कोलेस्ट्रॉल करे कम (Reduce Cholesterol)

      हृदय को स्वस्थ रखने के लिए यह आवश्यक है कि शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा नियंत्रण रहे. खराब कोलेस्ट्रॉल को शरीर से बाहर निकालने और कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को नियंत्रित रखने के लिए संतरे का सेवन कर सकते हैं.

      संतरे के अंदर फाइबर, पोटेशियम, पेक्टिन और हेस्पेरेडिन आदि तत्व होते हैं जो खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं. इसलिए कोलेस्ट्रॉल की समस्या को दूर करने के लिए नियमित रूप से अपने आहार में संतरे को शामिल करें.

      100 gm संतरे के अंदर 179 mg पोटेशियम की मात्रा पाई जाती है.

      4. ऊर्जावान रहने के लिए (To be energetic)

      यदि आप चाहते हैं कि आप दिन भर ऊर्जावान बने रहें तो आपको संतरे का सेवन जरूर करना चाहिए, क्योंकि संतरा कार्बोहाइड्रेट और ऊर्जा का अच्छा स्रोत है.

      100g संतरे के अंदर ऊर्जा (Energy) की मात्रा 49 कैलोरी और कार्बोहाइड्रेट 11. 89 mg होता है जो कि ऊर्जावान रहने के लिए काफी अच्छा स्त्रोत है. इसलिए आप अपने आहार में संतरे का सेवन जरूर करें.

      5. संतरा के फायदे स्किन के लिए (benefits of oranges for skin)

      बढ़ती उम्र के साथ-साथ चेहरे पर झुर्रिया आना और त्वचा का ढल जाना जैसी समस्याओं को खत्म करने के लिए संतरा एक जड़ी बूटी के रूप में बहुत उपयोगी हैं. त्वचा को स्वस्थ रखने के लिए विटामिन सी की आवश्यकता होती है जो संतरे के अंदर प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है.

      संतरे का जूस या इसके छिलके का पाउडर बनाकर दूध या दही के साथ नियमित रूप से लेने से त्वचा में चमक आती है. संतरे के अंदर मौजूद साइट्रिक एसिड त्वचा पर होने वाले कील मुहांसों की समस्या को दूर करने में मदद कर सकता है.

      त्वचा में निखार लाने के लिए संतरे के छिलके भी बहुत फायदेमंद होते हैं, संतरे के छिलके का रस चेहरे पर लगाने से डार्क स्पॉट्स को खत्म करने में मदद मिलती है.

      6. संतरा के फायदे स्वस्थ बालों के लिए (for healthy hair)

      स्वस्थ और घने बालों के लिए जिन पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है वह सारे पोषक तत्व संतरे के अंदर मौजूद होते है जैसे कि विटामिन ए, सी, ई, आयरन और एंटी ऑक्सीडेंट तत्व आदि.

      यह विटामिन्स बालों की जड़ों को महत्वपूर्ण पोषण देते हैं जिससे बाल झड़ने से रुकते हैं और बालों की ग्रोथ भी होती है.

      संतरा खाने के 12 फायदे और नुकसान | benefits and side effects of oranges in hindi

      7. हृदय के लिए लाभकारी (beneficial for heart)

      जिन लोगों को हाई ब्लड प्रेशर की समस्या होती है उनके लिए संतरा खाना बहुत फायदेमंद होता है क्योंकि संतरे के अंदर पोटेशियम, फोलिक एसिड, कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे तत्व खराब कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रण करके हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में रखते हैं.

      संतरा के अंदर ऊर्जा और विटामिन सी तत्व पाए जाते हैं जो शरीर में एनर्जी के लेवल को बढ़ाकर दिल को स्वस्थ और दिमाग को नई ताजगी और शक्ति प्रदान करते हैं. दिल के रोगी के लिए संतरे के जूस में शहद मिलाकर पीना फायदेमंद हो सकता है.

      8. गठिया रोग में लाभकारी (Arthritis)

      जो लोग गठिया रोग की बीमारी से पीड़ित होते हैं उनके लिए संतरे का रस बहुत फायदेमंद होता है. प्रतिदिन एक गिलास संतरे का जूस पीने से गठिया से होने वाले दर्द में राहत मिलती है.

      संतरे के तेल या संतरे के अंदर एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी बैक्टीरियल, एंटी फंगल और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं जो गठिया के रोग को दूर करने में मदद कर सकते हैं.

      9. किडनी की पथरी के लिए (for kidney stones)

      किडनी में होने वाली पथरी से बचने के लिए संतरे का जूस बेहद लाभकारी होता है क्योंकि संतरे के अंदर साइट्रिक एसिड मौजूद होता है जो पेशाब से संबंधित और गुर्दे में होने वाली पथरी के जोखिम को कम करने के लिए रामबाण इलाज है.

      संतरे में पाए जाने वाला उच्च पोटेशियम गुर्दे से हानिकारक विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मददगार होता है जिस कारण पथरी जैसी समस्या आसानी से दूर हो सकती है.

      10. कैंसर (Cancer)

      संतरे के अंदर मौजूद साइट्रस लिमोनोएड्स कई प्रकार के कैंसर से लड़ने में मदद करता है. संतरा विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट का अच्छा स्रोत होता है जो शरीर को हानिकारक फ्री रेडिकल सेल से बचाते है और शरीर के अंदर बनने वाली कैंसर कोशिकाओं के जोखिम को भी कम करने में मदद करते है.

      कई शोधों के अनुसार यह ज्ञात हुआ है कि संतरा फेफड़े, पेट, स्तन और त्वचा जैसे कई प्रकार के कैंसर से लड़ने में मदद कर सकता हैं.

      11. संतरा के फायदे प्रेगनेंसी में (benefits of orange in pregnancy)

      गर्भावस्था के दौरान संतरे का सेवन मां और बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद होता है. संतरा के अंदर विटामिन बी-6 और फोलिक एसिड का अच्छा स्रोत होता है जो बच्चे के मस्तिष्क के विकास के लिए फायदेमंद होता है.

      गर्भावस्था के दौरान कब्ज की समस्या को भी कम करने के लिए संतरा बहुत उपयोगी है क्योंकि इसके अंदर घुलनशील और अघुलनशील फाइबर एवं सैलुलोज होता है जो आसानी से मल त्यागने में मदद करते हैं.

      संतरे के अंदर पोटेशियम पाया जाता है जो महिलाओं के अंदर ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद करता है. गर्भावस्था के दौरान दो या तीन से अधिक संतरे ना खाएं.

      संतरे के पोषक तत्वों की मात्रा – (Oranges Nutrient Value Per 100 g in hindi)

      According to the USDA National Nutrients Database

      पोषक तत्व (Nutrients) मात्रा (The quantity) अनुशंसित आहार भत्ता (Recommended Dieatry Allowance - The estimated amount of a nutrient per day for good health)
      ऊर्जा (Energy) 49 Kcal 2.5%
      कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrates) 11.89 mg 9%
      प्रोटीन (Protein) 0.94 mg 1.5%
      टोटल फैट (Total fat) 0.30 mg 0.5%
      कोलेस्ट्रॉल (cholesterol) 0 mg 0%
      फाइबर (Dietary Fiber) 2.50 mg 6%
      फोलटेस (Folates) 39 µg 10%
      नियासिन (Niacin) 0.274 mg 2%
      पैंटोथैनिक एसिड (pantothenic acid) 0.250 mg 5%
      पाइरिडोक्सिन (pyridoxine) 0.063 mg 4.5%
      राइबोफ्लेविन (Riboflavin) 0.040 mg 3%
      थायमिन (Thiamin) 0.087 mg 7.5%
      विटामिन (Vitamin A) 230 IU 8%
      विटामिन (Vitamin C) 48.5 mg 81%
      सोडियम (Sodium) 0 mg 0%
      पोटेशियम (Potassium) 179 mg 4%
      आयरन (Iron) 0.09 mg 1%
      मैग्नीशियम (Megnesium) 10 mg 2.5%
      मैग्नीज (Manganese) 0.023 mg 1%
      जिंक (Zinc) 0.06 mg 1%
      कैल्शियम (Calcium) 40 mg 4%

      संतरा की तासीर | Orange Taseer in hindi

      किसी भी फल या खाद्य पदार्थ का सेवन करने से पहले उसकी तासीर जरूर जान लेनी चाहिए कि वह ठंडी तासीर वाला फल है या गरम. यहां संतरा फल की बात कर रहे हैं जिसकी तासीर ठंडी प्रकृति की होती है.

      संतरा कब खाना चाहिए | when to eat orange in hindi?

      यदि फलों का सेवन सीमित मात्रा में और सही समय किया जाए तो इसके फायदे कुछ और ही होते हैं. किसी भी फल का सेवन करने से पहले उसका समय, तासीर और मात्रा का जानना जरूरी होता है. तो आइए जानते हैं संतरा खाने का सही समय क्या है?

      संतरे का सेवन सुबह के समय खाली पेट नहीं करना चाहिए क्योंकि इसके अंदर अमिनो एसिड की अधिक मात्रा होती है जो पाचन तंत्र को नुकसान पहुंचा सकता है और गैस, एसिडिटी, अपच जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं.

      संतरा हमेशा दिन के समय ही खाना चाहिए. संतरा खाने का सही समय दोपहर 12:00 बजे से लेकर शाम 5:00 बजे तक जब धूप निकली हुई होती है तब खाना चाहिए. संतरा हमेशा ब्रेकफास्ट के बाद या खाना खाने के 1 घंटे बाद खाना चाहिए जो खाना पचाने मे मदद करता है.

      नोट (Note)

      संतरा और संतरे के जूस की अगर तुलना की जाए तो संतरा खाना ज्यादा लाभदायक होता है क्योंकि इसके अंदर फाइबर, विटामिन सी, एंटीऑक्सीडेंट्स और कई मिनरल्स प्रचुर मात्रा में रहते हैं जबकि संतरे के जूस में इन विटामिनों की मात्रा में कमी आ जाती है इसलिए कोशिश करें कि जूस की जगह संतरे का सेवन अधिक करें और दिन मे केवल 2-3 संतरे से अधिक ना खाएं.

      संतरा खाने के नुकसान | Disadvantages of oranges to eat in hindi

      किसी भी खाद्य पदार्थ या फल की अधिकता सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकती है तो आइए जानते हैं अधिक मात्रा में संतरा खाने से क्या नुकसान हो सकता है?

      ▪ संतरा के अंदर प्रचुर मात्रा में फाइबर तत्व मौजूद होता है जिसकी अधिकता से पेट में ऐठन, दस्त और गैस जैसी समस्याएं हो सकती हैं.

      ▪ संतरे के अंदर अधिक मात्रा में सिट्रिक एसिड मौजूद होता है जो गले में खराश और दांतों को नुकसान पहुंचा सकता है.

      ▪ संतरा एसिडिक प्रकृति का होता है जिसकी अधिकता से प्रेग्नेंट महिलाओं को सीने में जलन हो सकती है.

      ▪ सीमित मात्रा में संतरे का सेवन स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है लेकिन इसकी अधिकता होने पर यह ब्लड शुगर के लेवल को बढ़ा सकता है.

      ▪ संतरे के अंदर खट्टापन अधिक होता है जिस वजह से हड्डियों में दर्द और जोड़ों में सूजन और दर्द की समस्या हो सकती है जिस कारण ऑस्टियोपोरोसिस बीमारी की परेशानी भी बढ़ सकती है.

      ▪ अधिक मात्रा में संतरे खाने से वजन बढ़ने की समस्या भी हो सकती है, क्योंकि मेटाबॉलिज्म का स्तर घटने लगता है और ग्लाइमेक्स इंडेक्स का लोड बढ़ जाता है जिस कारण वजन बढ़ने लगता है.

      आखिरी शब्द | Last word

      जिस तरह जीवन जीने के लिए भोजन की आवश्यकता होती है उसी तरह शरीर को स्वस्थ रखने के लिए पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है. फलों के सेवन से शरीर को वह सभी विटामिंस प्राप्त होते हैं जो शरीर की अंदरूनी प्रणाली को मजबूत करने के लिए ईंधन के रूप में कार्य करते हैं.

      हमने अपने इस लेख में संतरा खाने के फायदे और नुकसान, संतरा की तासीर, संतरा के पोषक तत्व, संतरा कब खाना चाहिए और संतरा खाने का सही समय के बारे में विस्तृत रूप से जाना.

      संतरा एक ऐसा फल है जिसके अंदर प्रचुर मात्रा में विटामिन सी, एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इन्फ्लेमेटरी, एंटीबायोटिक और भी कई ऐसे पोषक तत्व होते हैं जो शरीर को स्वस्थ रखने के साथ-साथ गंभीर बीमारियों का जोखिम भी कम करते हैं. इसलिए आहार के साथ-साथ फलों (संतरा खाने के फायदे) का सेवन भी जरूर करें.

      पूछे जाने वाले प्रश्न | FAQ

      Q. संतरा खाने के क्या लाभ है?
      A. संतरा खाने से शरीर को कई प्रकार के लाभ होते हैं जैसे कि प्रतिरक्षा क्षमता बढ़ाने में, कोलेस्ट्रोल करें कम, एनर्जीटिक रहने के लिए, बालों और त्वचा के लिए फायदेमंद, हृदय के लिए लाभकारी, किडनी और गठिया रोग में  फायदेमंद, कैंसर और प्रेगनेंसी में भी संतरा खाने के फायदे होते हैं.

      Q. संतरा खाने का सही समय क्या है?
      A. संतरा कभी भी सुबह के समय खाली पेट नहीं खाना चाहिए. संतरे का सेवन हमेशा दोपहर के समय और खाना खाने के 1 घंटे बाद ही करें.

      Q. 1 दिन में कितने संतरे का सेवन करना चाहिए?
      A. 1 दिन में हमेशा दो या तीन संतरो का सेवन करें इससे अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर को नुकसान पहुंच सकता है.

      Q. संतरा ठंडा होता है या गर्म?
      A. संतरा फल की तासीर ठंडी प्रकृति की होती है.

      Q. संतरा कब नहीं खाना चाहिए?
      A. संतरा सुबह खाली पेट या ब्रेकफास्ट के पहले या रात में नहीं खाना चाहिए. संतरे का सेवन दोपहर के समय 12:00 से 5:00 के बीच कर सकते हैं.

      और भी पढ़ें...

      July 27, 2021

      अमरूद खाने के फायदे और नुकसान | Benefits and harms of eating guava in hindi

      अमरूद खाने के फायदे और नुकसान | Benefits and harms of eating guava in hindi
      अमरुद जरूर खाएं क्यों? इसके 12 आश्चर्यजनक फायदे, गुण, उपयोग और नुकसान

      अमरुद की  ORAC वैल्यू  2550 per 100 gm  होती है. ORAC (oxygen radical absorbance capacity) का मतलब ऑक्सीजन रेडिकल अवशोषण क्षमता है. यह किसी भी खाद्य पदार्थ की कुल एंटीऑक्सीडेंट क्षमता को मापने का पैमाना है. अमरुद की ORAC वैल्यू अधिक होने से इसके अंदर एंटीऑक्सीडेंट की अच्छी मात्रा पाई जाती है.

      आज इस लेख के जरिए अमरूद के बारे में विस्तृत रूप से जानेंगे जैसे कि अमरूद खाने के फायदे और नुकसान, अमरूद के पोषक तत्वों की मात्रा, अमरूद के पत्ते के फायदे, अमरूद की तासीर, अमरूद के घरेलू उपयोग और अमरूद खाने का सही समय आदि.

      जिस प्रकार भोजन सेहत के लिए जरूरी है उसी प्रकार फलों का सेवन भी स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी होता है. क्योंकि फलों के सेवन से वह सारे पोषक तत्वों की प्राप्ति होती है जो भोजन से प्राप्त नहीं होते हैं.

      अमरूद खाने में जितना स्वादिष्ट होता है उतना ही अमरूद खाने से लाभ होते हैं क्योंकि इसके अंदर कई तरह के विटामिंस पाए जाते हैं जैसे कि.