टेंशन कम करने के आसान 13 उपाय और लक्षण | what is stress in hindi

टेंशन कम करने के आसान 13 उपाय और लक्षण | what is stress in hindi
टेंशन कम करने के आसान 13 उपाय और लक्षण | what is stress in hindi

अमेरिकन इंस्टिट्यूट एक रिपोर्ट के अनुसार हर वर्ष कम से कम 120000 लगभग लोग अपने काम के स्ट्रेस या तनाव की वजह से मर जाते हैं.

आज के समय में 100 में से 95% लोग डिप्रेशन का शिकार हो रहे हैं यह डिप्रेशन किसी भी अवस्था में और कई कारणों से होता है तो आइए पढ़ते हैं.

आज हम अपने इस लेख में जानेंगे कि चिंता या डिप्रेशन को अपने आप से कैसे दूर रख सकते हैं, तनाव दूर करने के क्या उपाय होते हैं, तनाव के प्रकार लक्षण और चिंता दूर करने के घरेलू उपाय?


    स्ट्रेस (Tension), तनाव या डिप्रेशन क्या होता है | What is depression in hindi

    तनाव हमारे शरीर से ही उत्पन्न हुई एक सामान्य प्रतिक्रिया होती है जब हम अपने आप को किसी मुश्किल में पाते हैं तो हमारा मानसिक संतुलन धीरे-धीरे बिगड़ने लगता है.

    तनाव से उत्पन्न हुई प्रतिक्रिया ही हमें चुनौतियों का सामना करने में मदद करती हैं, पर कुछ समय गुजर जाने के बाद यही तनाव हमारी सहायता करना बंद कर देता है.

    स्वस्थ (healthy) रहने के लिए क्या खाना चाहिए तथा नियम? health tips in hindi

    स्वस्थ (healthy) रहने के लिए क्या खाना चाहिए तथा नियम? health tips in hindi
    स्वस्थ (healthy) रहने के लिए क्या खाना चाहिए तथा नियम?

    हम जिंदगी में चाहे जितना पैसा कमा लें लेकिन यदि हम स्वस्थ नहीं हैं तो सारा पैसा बेकार है. क्योंकि जब हम गंभीर बीमारियों से घिर जाते हैं तो जितना भी पैसा हम कमाते हैं, वह सब कुछ एक बार में खर्च हो जाता है.

    भूख ना लगने के क्या कारण होते हैं और भूख बढ़ाने के उपाय? | Increase appetite in hindi

    भूख ना लगने के क्या कारण होते हैं और भूख बढ़ाने के उपाय? | Increase appetite in hindi
    भूख ना लगने के क्या कारण होते हैं और भूख बढ़ाने के उपाय?

    अगर हमें एक स्वस्थ जीवन जीना है तो सबसे पहले हमें अपने खानपान या अपनी दिनचर्या पर ध्यान देना पड़ेगा, क्योंकि स्वास्थ्य ही धन होता है. यदि हम स्वस्थ हैं तो हम खुश भी हैं और हम दूसरों को भी खुश रख सकते हैं.

    हम इस लेख में जानेंगे कि भूख कम या भूख ना लगने के क्या कारण होते हैं और हम किन घरेलू उपायों की मदद से अपनी भूख को बढ़ा सकते हैं, तो आइए पढ़ते हैं और कुछ सीखते हैं.

    आंखों के लिए काली मिर्च है बेमिसाल इसके फायदे, उपाय और नुकसान | Benefits of black pepper in hindi

    आंखों के लिए काली मिर्च है बेमिसाल इसके फायदे, उपाय और नुकसान | Benefits of black pepper in hindi

    आंखों के लिए काली मिर्च है बेमिसाल इसके फायदे, उपाय और नुकसान | Benefits of black pepper
    आइए जानते हैं काली मिर्च के फायदे, नुकसान और घरेलू उपाय.

    हम काली मिर्च का उपयोग अपने भोजन का स्वाद बढ़ाने के लिए करते हैं तो इससे हमारा खाना स्वादिष्ट हो जाता है.

    हिमोग्लोबिन या खून की कमी से क्या होता है, लक्षण और उपाय? | anemia in hindi

    हिमोग्लोबिन या खून की कमी से क्या होता है, लक्षण और उपाय? | anemia in hindi
    हिमोग्लोबिन या खून की कमी से क्या होता है, लक्षण और उपाय?

    यदि हमारा स्वास्थ्य सही है तो समझिए कि हम सबसे धनी व्यक्ति हैं क्योंकि वह कहते हैं ना कि स्वास्थ्य ही धन है. 

    हम अपने इस लेख में जानेंगे कि खून की कमी (एनीमिया) से क्या होता है? खून की कमी के लक्षण, उपाय और हीमोग्लोबिन बढ़ाने के फल (फ्रूट) के बारे में.

    लौंग खाने के फायदे और नुकसान | Benefits of cloves (laung) in hindi

    लौंग खाने के फायदे और नुकसान | Benefits of cloves (laung) in hindi
    लौंग खाने के फायदे और नुकसान

    वैसे तो हम सब लोग रोजमर्रा की जिंदगी में रसोई के अंदर उपयोग होने वाली लौंग (Clove) के बारे में जानते ही हैं. हम सब को यह जरूर पता है की लौंग का उपयोग हम कई प्रकार के व्यंजनों का स्वाद बढ़ाने के लिए करते हैं.

    लेकिन शायद हमें यह नहीं पता की लौंग किसी औषधीय जड़ी बूटी से कम नहीं. यदि हम अपनी दिनचर्या में केवल 2 लौंग ही मुंह में रखकर चबाते हैं तो इससे हमारी सेहत को कई लाभ (लौंग के फायदे) होते हैं.

    लौंग की ORAC (oxygen radical absorption capacity) वैल्यू 314446 है. ORAC वैल्यू का मतलब किसी भी चीज के अंदर एंटी-ऑक्सीडेंट क्षमता का मापना होता है जो कि अमेरिकी कृषि विभाग द्वारा विकसित एक पैमाना है.

    आज हम अपने इस पूरे लेख में जानेंगे कि लौंग के क्या फायदे, घरेलू उपाय, उपयोग, पुरुषों के लिए लौंग के फायदे, पोषक तत्वों की मात्रा (विटामिन) और नुकसान के बारे में?


      लौंग क्या है और इसके बारे में जानकारी? | What is cloves?

      लौंग छोटे कद का सदाबहार वृक्ष होता है जिसमें छोटे-छोटे फूल लगते हैं जिन्हें सुखाकर ही हमें लौंग प्राप्त होती है. लौंग का उपयोग हम भारतीय मसालों में व्यंजनों का जायका बढ़ाने के लिए करते हैं.

      प्राचीन समय से ही लौंग का उपयोग हम जड़ी-बूटी के रूप में भी करते आ रहे हैं. आज भी हम आयुर्वेदिक दवाइयों में लौंग का उपयोग देख सकते हैं.

      लौंग की ORAC (oxygen radical absorption capacity) वैल्यू 10 मिलियन से भी अधिक होती है इसका मतलब कि लौंग के अंदर एक बहुत ही अच्छी मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं.

      • लौंग का वैज्ञानिक नाम सीजीजियम अरोमैटिकम (syzygm aromaticum) हैं.
      • लौंग का लैटिन नाम पिपर (piper) है.
      • लौंग का पेड़ चमकीले, अंडाकार पत्ते पैदा करते हैं जो जोड़े के रूप में बढ़ते हैं. वह गहरे हरे रंग की और बहुत ही सुगंधित भरे हुए होते हैं.
      • विशेषज्ञों के अनुसार लौंग का सेवन पुरुषों के लिए बहुत ही फायदेमंद माना जाता है.
      • लौंग की तासीर गर्म प्रकृति की होती है.
      • लौंग की सबसे ज्यादा खेती मलक्का द्वीप में होती है, लेकिन भारत में लौंग की खेती केरल और तमिलनाडु में की जाती है. 

      लौंग के औषधीय गुण | Medicinal properties of cloves in hindi

      आज भी आयुर्वेदिक दवाइयों, चूर्ण, टूथपेस्ट में लौंग का उपयोग देखा जा सकता है. लौंग के अंदर एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-वायरल, जैसे गुण होते हैं.

      लौंग के अंदर कई तरह के पोषक तत्व भी पाए जाते हैं जैसे कि पोटेशियम, सोडियम, लोहा, मैग्नीज, आयोडीन, विटामिन K और C, ओमेगा 3 फैटी एसिड, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस आदि.

      लौंग कई औषधीय गुणों से भरपूर होती है इसलिए हम इतने प्राचीन समय से लौंग का उपयोग करते आ रहे हैं.

      लौंग के फायदे | Benefits of cloves in hindi

      हम लौंग का उपयोग चाय बनाने में, रसोई में व्यंजनों का स्वाद बढ़ाने में तो करते ही हैं लेकिन यदि हम लौंग का उपयोग एक आयुर्वेदिक जड़ी बूटी के रूप में करें तो यह हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद होती हैं.

      आइए जानते हैं लौंग के कई सेहतमंद फायदों के बारे में.

      1. सर्दी-खांसी में फायदेमंद

      अक्सर सर्दियों में हमें बहुत जल्द सर्दी- खांसी, बुखार की शिकायत होने लगती है. सर्दी- खांसी होने पर हम लौंग का इस्तेमाल कर सकते हैं, क्योंकि लौंग की तासीर गर्म होती है.

      लौंग के अंदर एंट्री-एंटीवायरल और एंटी-वायरस गुण होते हैं जो हमें इन वायरस या बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करते हैं.

      लौंग का सेवन सर्दी-खांसी में कैसे करना चाहिए वह हम आगे चर्चा करेंगे?

      2. पाचन क्रिया में फायदेमंद

      लौंग का उपयोग हम अपनी पाचन क्रिया को मजबूत करने के लिए और पेट से संबंधित कई बीमारियों को ठीक करने के लिए कर सकते हैं.

      आपने देखा होगा कि पेट से संबंधित बीमारियों के लिए जो बाजार में चूर्ण उपलब्ध होते हैं उनमें लौंग का मिश्रण जरूर रहता है.

      क्योंकि लौंग के अंदर कई ऐसे गुण पाए जाते हैं जो पाचन क्रिया से संबंधित समस्याओं को दूर करने में जैसे पेट में दर्द, पेट का फूलना, मतली, डायरिया और उल्टी आदि में फायदेमंद होते हैं.

      3. लौंग के फायदे दांतों व मसूड़ों के लिए

      दांतों और मसूड़ों में होने वाले दर्द में राहत पाने के लिए लौंग व लौंग के तेल का इस्तेमाल प्राचीन समय से ही होता आ रहा है. 

      यह हम आज भी देख सकते हैं इसलिए जो हम टूथपेस्ट या मंजन का इस्तेमाल करते हैं उसमें लौंग का मिश्रण जरूर होता है, क्योंकि वह हमारे दांत एवं मसूड़ों की मजबूती के लिए फायदेमंद होती है.

      लौंग के अंदर एंटी-इन्फ्लेमेटरी, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-सेप्टिक गुण पाए जाते हैं जो हमारे दातों व मसूड़ों की देखभाल के लिए जरूरी होते हैं.

      लौंग खाने के फायदे और नुकसान
      लौंग खाने के 9 सेहतमंद फायदे | 9 healthy benefits of eating cloves


      4. मुंह की बदबू को दूर करने में लौंग के फायदे

      आजकल बहुत से लोग मुंह में बदबू आने के कारण परेशान होते हैं और शर्मिंदगी महसूस करते हैं. यह बदबू हमें दांतों व मसूड़ों में होने वाली बीमारी या पेट में अपच की समस्या से होने लगती है.

      ऐसे में हम केवल एक छोटी सी लौंग मुंह में रखें और उसे धीरे-धीरे चबाते रहें. इससे आपके मुंह से बदबू भी नहीं आएगी और आपके दांतों व मसूड़ों को भी आराम मिलेगा.

      लौंग के अंदर एंटी-सेप्टिक और एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं जो हमारे मुंह में आने वाली बदबू को खत्म करने में मदद करते हैं.

      5. हड्डियों की मजबूती के लिए

      लौंग के खाने का फायदा यह भी है कि यह हमारी हड्डियों को मजबूती देता है और शरीर के हाथ व पैरों के जोड़ों में होने वाले दर्द में राहत पहुंचाता है. 

      जोड़ों के दर्द में हम लौंग के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं यह बहुत ही प्रभावी होता है. लौंग के अंदर एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं जो दर्द में राहत देते हैं.

      हर 100 ग्राम लौंग के अंदर 44 mg कैल्शियम और 1.23 mg आयरन पाया जाता है.

      कैल्शियम, ओमेगा- 3 फैटी एसिड और लौह तत्व जैसे विटामिंस हमारी हड्डियों को मजबूती प्रदान करते है.

      6. कान के दर्द में लौंग के फायदे

      जैसा कि हम जानते हैं लौंग एक दर्द निवारक औषधि है क्योंकि इसके अंदर एंटी-सेप्टिक, एंटी-बैक्टीरियल, एंटी- इन्फ्लेमेटरी जैसे गुण पाए जाते हैं जो हमें तुरंत दर्द में राहत पहुंचाते हैं.

      कान में होने वाले दर्द में हम लौंग के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं. इसमें एक छोटे से रुई के टुकड़े को लौंग के तेल में भिगोकर कान के पास रखने से कान के दर्द में राहत मिलती है.

      7. तनाव को कम करने में लौंग के फायदे

      जब हम अपने दिनभर की दिनचर्या को खत्म करने के बाद तनाव महसूस करने लगते हैं तो इसका फर्क हमारे स्वास्थ्य पर भी पड़ता है.

      तनाव हमारे दिमाग को एक तरह से जकड़ लेता है जिससे हम अपने आप में शांति महसूस नहीं कर पाते हैं और ना ही स्वस्थ.

      ऐसे में हम लौंग का सेवन कर सकते हैं क्योंकि लौंग के अंदर एक यूगेनोल तत्व होता है जो मांसपेशियों को तनाव मुक्त करने में प्रभावशाली होता है.

      8. वजन कम करने में लौंग फायदेमंद 

      हम सोचते होंगे कि लौंग खाने से हमारा वजन कैसे कम हो सकता है? लेकिन लौंग खाने से या इसके नियमित सेवन से हम अपने मोटापे को कम कर सकते हैं और मोटापे से होने वाली कई बीमारियों को भी खत्म कर सकते हैं.

      लौंग खाने से यह हमारे शरीर के अंदर मेटाबॉलिज्म स्तर को बढ़ा देता है जिससे हमें अपने वजन को कम करने में मदद मिलती है. लेकिन वजन कम करने के लिए आप नियमित व्यायाम या योग को जरूर अपनाएं.

      9. श्वसन तंत्र में लाभकारी

      जब हमें सर्दियों में सर्दी- खांसी या गले में कफ का जम जाना जैसी परेशानियां होती हैं तो इन परेशानियों का निवारण करने के लिए हम लौंग का इस्तेमाल कर सकते हैं.

      लौंग के अंदर एंटी-इन्फ्लेमेटरी, एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटी-वायरल जैसे गुण होते हैं जो गले से संबंधित छोटी-छोटी बीमारियों में, अस्थमा और नाक को साफ करने में राहत देते है.

      लौंग खाने के फायदे और नुकसान


      लौंग व लौंग के तेल के घरेलू फायदे (उपाय) | Home remedies for cloves in hindi

      शुरू से ही हम बहुत से घरेलू नुस्खों के बारे में पढ़ते आ रहे हैं. कुछ रोजमर्रा की चीजों को ही हम घरेलू नुस्खों की तरह उपयोग कर सकते हैं जैसे कि हम यहां लौंग के घरेलू उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं.

      जुखाम1. लौंग का काढ़ा पीने से जुकाम ठीक हो जाता है.

      2 - लौंग के तेल को रुमाल पर डालकर सूंघने से जुखाम में आराम मिलता है.

      3. पान में दो लौंग डालकर खाने से जुकाम ठीक हो जाता है.

      रतौंधी - एक लौंग को बकरी के दूध के साथ पीसकर सुरमे की तरह आंखों में लगाने से धीरे-धीरे रतौंधी रोग समाप्त हो जाता है.

      बुखार - एक लौंग पीसकर गर्म पानी से फंकी लें इस तरह रोज 3 बार यह प्रयोग करने से बुखार दूर हो जाता है. 

      दांतों के रोग1. दांत में कीड़े लगने पर लौंग को दांत के खोखले स्थान में रखने से या लौंग का तेल लगाने से लाभ मिलता है. 

      2. रुई को लौंग के तेल में भिगोकर दर्द वाले दांत के नीचे रखें तथा लार को नीचे गिरने दे. 

      3. लौंग को आग पर भून कर दातों के गड्ढे में रखने से दातों का दर्द खत्म होता है. 

      4. 5 लौंग पीसकर उसमें नींबू का रस निचोड़ कर दातों पर मलने से दांतों के दर्द में लाभ होता है अथवा 5 लौंग एक गिलास पानी में उबालकर उससे रोजाना 3 बार कुल्ला करने से लाभ होता है.

      सूखी या गीली खांसी - 1. सुबह शाम दो-तीन लौंग मुंह में रखकर रस चूसते रहना चाहिए. 

      2. लौंग और अनार के छिलकों को बराबर पीस लें फिर इसे चौथाई चम्मच भर लेकर आधे चम्मच शहद के साथ दिन में 3 बार चाटने से खांसी ठीक हो जाती है.

      भूख न लगना - 1/2 ग्राम लोंग का चूर्ण 1 ग्राम शहद के साथ रोज सुबह लेना चाहिए थोड़े ही दिनों में भूख अच्छी तरह लगने लगती है.

      गर्भवती स्त्री की उल्टी - गर्भवती स्त्रियों की उल्टी पर 1 ग्राम लोंग का पाउडर अनार के साथ देना चाहिए. लौंग 1 ग्राम पीसकर शहद में मिलाकर दिन में 3 बार चाटने से गर्भवती महिलाओं की उल्टी बंद हो जाती है.

      पेट दर्द - लोंग के पाउडर को शहद के साथ चाटने से लाभ मिलता है पेट दर्द में लाभ मिलता है.

      सिर दर्द - 1. लौंग को पीसकर इसका लेप लगाने से सिर दर्द तुरंत बंद हो जाता है.

       2. 6 ग्राम लौंग को पानी में पीसकर गरम कर गाढ़ा लेप कान के पास लगाने से सिर दर्द दूर हो जाता है. 

      3. लौंग के तेल को सिर और माथे पर लगाएं या नाक के दोनों ओर के नथनों में डालें इससे सिर का दर्द दूर हो जाता है.

      4. लगभग 5 ग्राम लौंग लेकर उसको एक कप पानी में पीसकर गर्म करें और आधा कप पानी रहने पर छानकर चीनी मिला दें. इसे सुबह-शाम 2-4 बार पिलाने से सिर का दर्द खत्म हो जाता है.

      पेट की गैस - 2 लौंग पीसकर उबलते हुए आधा कप पानी में डालें फिर कुछ ठंडा होने पर पी लें. इस प्रकार रोजाना तीन बार करने से पेट की गैस में फायदा मिलता है.

      नासूर - लौंग और हल्दी पीसकर लगाने से नासूर के रोगी का रोग दूर हो जाता है.

      हैजा - लौंग का पानी बनाकर रोगी को देने से प्यास और उल्टी कम होती है और पेशाब भी खुलकर आता है. 

      पित्तज्वर - 4 लौंग पीसकर पानी में घोलकर रोगी को पिलाने से तेज ज्वर कम होता है.

      टाइफाइड - इसमें लौंग का पानी पिलाना फायदेमंद है. 5 लौंग 2 किलो पानी में उबालकर आधा पानी शेष रहने पर छान लें इस पानी को रोगी को रोज बार-बार पिलाएं.

      मुंह की बदबू - लौंग को मुंह में रखने से मुंह और सांस की बदबू दूर होती है.

      दिल की जलन – 2-4 पीस लौंग को ठंडे पानी में पीसकर मिश्री मिलाकर पीने से दिल की जलन शांत होती है. लौंग चबाने से भी जी मचलना ठीक हो जाता है.

      फेफड़ों की सूजन - लौंग का चूर्ण बनाकर 1 ग्राम की मात्रा में लेकर शहद व घी मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से खांसी और सांस से संबंधित बीमारी दूर हो जाती है.

      दांत मजबूत करना - दातों में कमजोरी के कारण दांत बहुत जल्द टूटने लगते हैं. इस तरह की परेशानी में काली मिर्च 50 ग्राम और 10 ग्राम लौंग को पीसकर मंजन बना लें और इसे रोजाना मंजन करें.

      पायरिया - लौंग के तेल में खस और इलायची मिलाकर प्रतिदिन सुबह-शाम दांतों पर मलने से पायरिया ठीक होकर मुंह की दुर्गंध दूर हो जाती है.

      दांत के कीड़े - दांतों में कीड़े लग जाने पर कीड़े हमारे दांतो को अंदर ही अंदर खोखला कर देते हैं. ऐसे में लौंग के तेल को रूई में भिगोकर उस खोखले स्थान पर रखें इससे आपके दांतों के कीड़े भी नष्ट हो जाएंगे और दर्द भी कम हो जाता है. 

      काली खांसी - थोड़ी सी लौंग तवे पर भूनकर कूट पीसकर बारीक चूर्ण बना लें. इस लौंग के चूर्ण को शहद में मिलाकर चाटने से काली खांसी दूर हो जाती है.

      कब्ज - लौंग 10 ग्राम, कालीमिर्च 10 ग्राम, अजवायन 10 ग्राम, लाहौरी नमक 50 ग्राम और मिश्री 50 ग्राम को पीसकर छानकर नींबू के रस में डाल दें. सूखने पर 5-5 ग्राम पानी से खाना खाने के बाद दवाई के रूप में लेने से लाभ होता है.

      कमर दर्द - लौंग के तेल की मालिश करने से कमर दर्द के अलावा अन्य अंगों का दर्द भी खत्म हो जाता है. तेल की मालिश नहाने से पहले करनी चाहिए.

      नाक के रोग - लौंग को गर्म पानी के साथ पीसकर माथे पर लगाने से सिर दर्द और जुखाम ठीक हो जाता है.

      चक्कर आना - पहले 2 लौंग ले और इन लौंग को दो कप पानी में डालकर उबालें फिर इस पानी को ठंडा करके चक्कर आने वाले रोगी को पिलाने से चक्कर आना बंद हो जाता है.

      लिंग दोष - लिंग की इंद्रियों के दोष दूर करने के लिए 20 ग्राम लौंग को 50 मिलीलीटर तिल के तेल में डालकर जलाएं ठंडा होने पर इससे लिंग की मालिश करें इससे लिंग की इंद्रियों के दोष दूर हो जाते हैं.

      लिंग वृद्धि - लौंग के तेल को शहर के ऑलिव ऑयल में मिला लें फिर लिंग के अगले हिस्से को छोड़कर लिंग की मालिश करने से लिंग के आकार में वृद्धि होती है.

      टॉन्सिल का बढ़ना - 1 पान का पत्ता, 2 लौंग, 1/2 चम्मच मुलेठी, 4 दाने पिपरमेंट को एक गिलास पानी में मिलाकर काढ़ा बनाकर पीना चाहिए.

      लौंग खाने के फायदे और नुकसान
      आइए आगे जानते हैं | Let's know ahead

      लौंग के पोषक तत्वों की मात्रा – (Cloves Nutrient Value Per 100 g in hindi)

      According to the USDA National Nutrients Database

      पोषक तत्व (Nutrients) मात्रा (The quantity) अनुशंसित आहार भत्ता (Recommended Dieatry Allowance - The estimated amount of a nutrient per day for good health)
      ऊर्जा (Energy) 47 Kcal 2 %
      कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrates) 10.51 g 8 %
      प्रोटीन (Protein) 3.27 g 6 %
      टोटल फैट (Total fat) 0.15 g 0.5 %
      कोलेस्ट्रॉल (cholesterol) 0 mg 0 %
      फाइबर (Dietary Fiber) 5.4 g 14 %
      फोलटेस (Folates) 68 µg 17 %
      नियासिन (Niacin) 1.046 mg 6.5 %
      पैंटोथैनिक एसिड (pantothenic acid) 0.338 mg 7 %
      पाइरिडोक्सिन (pyridoxine) 0.116 mg 9 %
      राइबोफ्लेविन (Riboflavin) 0.066 mg 5 %
      थायमिन (Thiamin) 0.072 mg 6 %
      विटामिन (Vitamin A) 13 IU 0.5 %
      विटामिन (Vitamin C) 11.7 mg 20 %
      विटामिन (Vitamin E) 0.19 mg 1 %
      विटामिन (Vitamin k) 14.8 µg 12 %
      सोडियम (Sodium) 94 mg 6 %
      पोटेशियम (Potassium) 370 mg 8 %
      आयरन (Iron) 1.28 mg 16 %
      मैग्नीशियम (Megnesium) 60 mg 15 %
      मैग्नीज (Manganese) 0.256 mg 11 %
      जिंक (Zinc) 0.32 mg 21 %
      कैल्शियम (Calcium) 44 mg 4 %
      कॉपर (Copper) 0.231 mg 27 %


      पुरुषों के लिए लौंग के फायदे | Benefits of cloves for men in hindi

      जैसा कि हम ऊपर अपने लेख में पढ़ चुके हैं कि लौंग का सेवन (लौंग के फायदे) हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है लेकिन लौंग का उपयोग खासकर पुरुषों के लिए और भी फायदेमंद हो सकता है.

      1. लौंग के सेवन से मुंह में आने वाली दुर्गंध खत्म हो जाती है जिससे आप किसी और से बात करते समय शर्मिंदगी महसूस नहीं करते हैं.

      2. लौंग के सेवन से पुरुषों के अंदर पौरुष शक्ति (Masculine power) की बढ़ोतरी होती है.

      3. लौंग के सेवन से पुरुषों के अंदर शुक्राणु की गतिशीलता बढ़ती है और शीघ्रपतन जैसी समस्याएं भी खत्म हो जाती है.

      4. लौंग का सेवन पुरुषों के यौन संबंधित समस्याओं को भी खत्म करता है और यौन शक्ति (Sexual power) को भी बढ़ाता है.

      5. लौंग के अंदर मौजूद आवश्यक तत्व नपुंसकता के लक्षणों को कम करने में भी सहायक होते हैं.

      6. सिगरेट और तंबाकू की लत को छोड़ने के लिए लौंग का सेवन फायदेमंद होता है.

      7. लोंग का उपयोग लिंग वृद्धि में और लिंग से संबंधित इंद्रियों के दोष को दूर करने में फायदेमंद होता है.

      रात में लौंग खाने के फायदे | Benefits of eating cloves at night in hindi

      लौंग का उपयोग हम किसी भी वक्त कर सकते हैं लेकिन रात में सोते समय लौंग का सेवन करते हैं तो इससे हमें कई फायदे होते हैं.

      जैसे कि पेट से संबंधित बीमारियां पेट दर्द, गैस, एसिडिटी, कब्ज जैसी समस्याएं खत्म हो जाती हैं.

      लौंग अपने आप में ही एक पूर्ण औषधि है जिसके इस्तेमाल से हमारी सेहत को ऐसे कई फायदे होते हैं जो हमने कभी सोचे भी नहीं होंगे इसलिए आप अपने दैनिक जीवन में लौंग का उपयोग जरूर करें.

      लौंग के नुकसान | side effects of cloves in hindi

      हर चीज के अपने फायदे भी होते हैं और नुकसान भी चाहे वह किसी भी विषय में हो. तो आइए जानते हैं की लौंग के हमें क्या नुकसान हो सकते हैं?

      1. अधिक मात्रा में लौंग का सेवन करने से हमें किसी भी प्रकार की एलर्जी की समस्या हो सकती है.

      2. लौंग के अंदर ऐसे कई यौगिक तत्व होते हैं जो हमारे खून को पतला कर बिल्डिंग की समस्या को बढ़ा सकते हैं. 

      3. लौंग की तासीर गर्म होती है इसलिए इसका अधिक मात्रा में सेवन करने से हमें कई साइड इफेक्ट्स देखने को मिल सकते हैं.

      4. अधिक मात्रा में लौंग का सेवन करना शरीर में जलन पैदा कर सकती है. 

      5. लौंग का अधिक मात्रा में सेवन करना हमारे लीवर और आंतों को नुकसान पहुंचा सकता है.

      6. गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को लौंग का सेवन नहीं करना चाहिए.

      सारांश | Summary

      हमने अपने इस पूरे लेख में जाना की लौंग के फायदे-नुकसान, रात में लौंग खाने के फायदे, पुरुषों के लिए लौंग के फायदे और इसके घरेलू उपयोग के बारे में.

      अंत में हमें यही निष्कर्ष मिलता है कि हमें अपनी दैनिक दिनचर्या में लौंग का सेवन जरूर करना चाहिए वही भी 2 या 3. अधिक मात्रा में लौंग का सेवन नुकसानदायक हो सकता है.

      धन्यवाद.

      यह भी पढ़ें

      दिल (ह्रदय) को स्वस्थ रखने के उपाय और तरीके | Heart care tips in hindi

      दिल (ह्रदय) को स्वस्थ रखने के उपाय और तरीके | Heart care tips in hindi
      दिल (ह्रदय) को स्वस्थ रखने के उपाय और तरीके | Heart care tips in hindi

      मानव शरीर में बहुत से ऐसे अंग होते हैं जिनकी देखभाल करना बहुत जरूरी है. ईश्वर द्वारा बनाई गई मानव संरचना इस दुनिया के लिए एक तोहफा है.

      आज हम अपने इस लेख में जानेंगे कि हृदय को स्वस्थ (healthy heart tips) रखने के उपाय, हृदय को स्वस्थ रखने के लिए क्या खाएं, तरीके और घरेलू उपाय?